Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

टॉन्सिल संक्रमण कारण-लक्षण-उपचार Tonsils Causes Symptoms Treatment

टॉन्सिल - tonsils-causes-symptoms-treatment-in-hindi
(Tonsil) टॉन्सिल मुंह के अन्दर जीभ के निचले भाग जबडे के साथ नांक छिद्र के ठीक नीचे मौजूद होते हैं। टॉन्सिल गहरे लाल पीले हल्के सफेद मिक्स रंग के होते हैं। टॉन्सिल एक तरह से हानिकारक वायरल बैक्टीरिया को शरीर में प्रवेश से रोकने का काम करते हैं। परन्तु कई बार टॉन्सिल खुद संक्रमित हो जाते हैं। टॉन्सिल मुंह में आने वाले घातक बैक्टीरिया, वायरस (Bacteria, Virus) से संक्रमण होने पर ही दर्द तकलीफ देते हैं। टॉन्सिल बढ़ने पर गले में सूजन, दर्द, बुखार और टॉन्सिल बाहर और अन्दर की तरफ फैल जाते हैं। जिससे मुंह से बदबू, सांस लेने में परेशानी, खाने में परेशानी, इत्यादि समस्यायें उत्पन्न हो जाती हैं। टॉन्सिल को जल्दी बैक्टीरिया-वायरस से मुक्त करना जरूरी है। ज्यादा देर तक टॉन्सिल संक्रमित होने से Tonsilloliths Stone समस्या गंभीर हो सकती है।

टॉन्सिल बढ़ने के कारण Cause of Tonsils Debris Harden

  • वायरस बैक्टीरया मुंह में आना
  • टॉन्सिल संक्रमित व्यक्ति के सांसों से बैक्टीरिया वायरस आना
  • मौसम ज्यादा ठंड़ा होने से 
  • सर्दी जुकाम देर तक रहने से टॉन्सिल बढ़ना
  • ज्यादा ठंडी चीजों का लगातार सेवन करना।
  • मुंह कैविटी संक्रमित होना

टॉन्सिल के लक्षण (Tonsils Symptoms) 

  • गले में खर्राश होना
  • जबड़ो के निचले हिस्सों में सूजन आना
  • गले के दर्द होना
  • सांसों में बदबू आना
  • कानों के निचले हिस्से में सूजन दर्द
  • दर्द से बुखार आना
  • खाना खाने में गले में दर्द
  • टॉन्सिल से सफेद बदबूदार पदार्थ निकला
  • खाना स्वाद नहीं लगना और जीभ का टेस्ट बदलना

टॉन्सिल बढ़ने पर परहेज सावधानियां (Tonsils Precautions)

  • टॉन्सिल बढ़ने पर दही सेवन नहीं करें।
  • तली, भुनी, मसालेदार चीजों के सेवन से बचें।
  • ठंडा पानी, सोड़ा पेय, आईसक्रीम इत्यादि ठंडी चीजों से परहेज करें।
  • अण्डा, मीट, मछली सभी तरह से नॉनबेज खाने से बचें। घर पर बना सात्विक भोजन खायें। 
  • धूम्रपान, शराब, गुटका, तम्बाकू, नशीली चीजें टॉन्सिल को ज्यादा घातक बना देती है। नशीली चीजों के सेवन ना करें।
  • टॉफी, चॉकलेट, फास्टफूड, जंकफूड से परहेज करें।
  • बासी और ठंडा भोजन ना खायें।

टॉन्सिल का आर्युवेदिक घरेलू उपचार (Home remedies tips for cure Tonsil)

नमक पानी गर्रारा (Gargil Luke Warm Water)

टॉन्सिल होने पर नमक पानी गर्रारा फायदेमंद है। नमक पानी गर्रारा मंह में जमा भोजन म्यूकस अंश टॉन्सिल से हटाता है। और टॉन्सिल से होने वाली बदुबू से छुटकारा पाने में अच्छा तरीका है।


हल्दी दूध गोलकी मिश्रण (Milk Turmeric & Pepper Mint)

टॉन्सिल बढ़ने से दर्द, सूजन, बुखार में 1 गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी और आधा चम्मच गोलकी पाउडर मिलाकर पीना फायदेमंद है। 


शहद नींबू (Honey Lemon )

टॉन्सिल समस्या ठीक करने में शहद, नींबू, नमक मिश्रण फायदेमंद है। 1 गिलास गर्म पानी में 2 चम्मच शहद, आधा नींबू, चुटकी भर काला नमक मिलाकर कर पीने से टॉन्सिल समस्या से जल्दी आराम मिलता है।


करेला रस (Bitter Gourd Juice)

टॉन्सिल विकार को तेजी से घटाने और ठीक करने में करेला कच्चा खाना खाना और करेला रस सेवन फायेमंद है। करेला टॉन्सिल समस्या को तेजी से ठीक करने में सहायक है।


गाजर और चुकन्दर रस (Beetroot and Carrot)

टॉन्सिल बढ़ने पर आधा गिलास गाजर रस और आधा गिलास चुकन्दर का रस मिलाकर सेवन करना फायदेमंद है। यह अचूक मिश्रण टॉन्सिल को वायरल संक्रमण से जल्दी छुटकारा दिलाने में सहायक है।


सेब सिरका (Apple Vinegar)

टॉन्सिल को घटाने में सेब सिरका फायदेमंद है। 1 गिलास गर्म पानी में 2 चम्मच सेब सिरका घोलकर पीने से टॉन्सिल जल्दी ठीक करने में सहायक है।


सात्विक ताजा पौष्टिक भोजन (Healthy fresh foods)

घर पर बना सात्विक भोजन खायें। हरी सब्जियां, सलाद, संतुलित पौष्टिक खाना खायें। खाने के तुरन्त बाद गुनगुने पानी से गर्रारा करें।


पानी पीना (Drinking Plenty Water)

जब भी प्यास लगे गुनगुना पानी पीयें। गुनगुना पानी मुंह में कैविटी नहीं जमने देता और साथ ही टॉन्सिल बढ़ने से रोकने में सहायक है। टॉन्सिल बढ़ने पर पानी लार ग्रन्थि को सुचार बनाने में सक्षम है।


कच्ची लहसुन खाना (Row Garlic)

लहसुन एंटी बैक्टीरियल का रिच श्रोत है। टॉन्सिल को बैक्टीरिया से छुटकारा दिलाने में सहायक है। 2-3 लहसुन कलियां चबाकर खाना और खाने में लहसुन का इस्तेमाल करने से टॉन्सिल समस्या जल्दी दूर होती है।


सूती कपडा नमक सेका (Salt Stance)

3-4 चम्मच नमक को सूती कपड़े में बांध कर पोटली बना लें। फिर नमक की पोटली को तवे में गर्म कर गले की सूजन जगह पर सेकन करने से टॉन्सिल जल्दी ठीक करने में सक्षम है।


कच्चा प्याज खाना (Row Onion)

प्याज एंटी बैक्टीरियल का रिच श्रोत है। टॉन्सिल बढ़ने पर प्याज चबाकर खाना फायदेमंद है। प्याज सलाद खाना और प्याज रस गर्म पानी के साथ सेवन करना लाभदायक है। प्याज तेजी से बैक्टीरिया को नष्ट करने में सहायक है।


हर्बल चाय (Herbal Antibiotic Tea)

ग्रीन टी पीना और अदरक, इलाईची, दालचीनी मिश्रण से बनी चाय टॉन्सिल बैक्टीरिया को नष्ट करने में सहायक है।


अंजीर घी मिश्रण गर्म लेप (Anjir Deshi Ghee Lep)

टॉन्सिल सूजन से जल्दी आराम के लिए 4-5 अंजीर, 3-4 चम्मच देशी घी को पानी में पका कर, उबालकर लेप बनायें। हल्का ठंडा होने पर लेप गले सूजन पर लगाकर ऊपर से गर्म कपड़ा बांध दें। यह टॉन्सिल सूजन को जल्दी ठीक करने और टॉन्सिल घटाने में सहायक है।



This post first appeared on , please read the originial post: here

Share the post

टॉन्सिल संक्रमण कारण-लक्षण-उपचार Tonsils Causes Symptoms Treatment

×

Subscribe to

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×