Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

Sardi jukam ke gharelu dawa aur ilaj

Sardi jukam ke gharelu dawa aur ilaj

इस  article ke through hum shardi,jukam ke gharelu dawa aur ilaj के बारे में जानेंगे । शर्दी  जुखाम क्या है , यह क्यों होता  है,इसके लक्षण और भी बहुत ऐसी चीजे है जो इस लेख के माध्यम से जानने की कोसिस करेंगे । शर्दी और जुखाम  वैसे तो कोई ऐसी गभीर समस्या नहीं है जिससे घबराया जाये । फिर भी इसे नजरंदाज करना ठीक नहीं। आयुर्वेद, होम्योपैथी और योग आदि में ऐसे तमाम तरीके और दवाएं हैं ।जिनसे shardi,jukam को काबू में किया जा सकता है।
खांसी के घरेलू दवा और इलाज । home remedies for khasi

Sardi jukam ka gharelu dawa aur ilaj

बदलते मौसम में जुकाम  होना आजकल की एक आम समस्या है । थोड़ी सी लापरवाही और Immune system के कमजोर होने पर यह समस्या किसी को भी  हो सकती है । बेहतर है कि नाजुक हालात बनने से पहले ही जुकाम का उपचार शुरू कर दे ।  जुकाम कैसे होता है , इसके लक्ष्ण  क्या क्या है और इसमें राहत के लिए कौन-कौन से कारगर तरीके हैं? ऐसे ही तमाम सवालों के जवाब हम इस लेख के माध्यम से जानने की कोसिस करेंगे ।

क्या है जुकाम ?

जुकाम एक तरह की एलर्जी है, यह इस बात का लक्षण है कि श्वसन तंत्र में एलर्जी या इन्फेक्शन हो चुका है जिसमें नाक से पानी या बलगम निकलता है। जुकाम में हमारे श्वसन तंत्र में पस सेल्स और पानी का मिश्रण बन जाता है और इसी का नाक और गले के माध्यम से सीक्रेशन होने लगता है।

 जुकाम कैसे होता है | जुखाम  होने के क्या कारण है ?

 

 

1. जुकाम आमतौर पर सर्दी-गर्मी बढ़ने, एकदम ठंडा-गर्म खाने, ठंडे से गर्म व गर्म से ठंडे माहौल में जाने, ठंडा पानी ज्यादा पीने या बारिश में भीगने से गले में कुछ बैक्टीरिया स्टिमुलेट हो जाते हैं। ये बैक्टीरिया ही गले में इन्फेक्शन कर देते हैं और जुकाम की वजह बनते हैं।
2. हवा में मौजूद बैक्टीरिया या वायरस जब कभी सांस के जरिए शरीर में प्रवेश करते हैं, तो एलर्जी हो जाती है।  ये बैक्टीरिया सांस लेने के सिस्टम में भी प्रभावित कर देते हैं। नतीजा यह होता है कि पानी वाले या रेशेदार सीक्रेशंस नाक से बाहर आने लगते हैं।

 जुकाम होने के संकेत :

– सफेद और पतला पानी निकले तो समझें कि हल्का और आम जुकाम है इससे ज्यादा  घबराने की जरुरत नहीं है।
– अगर सीक्रेशंस ज्यादा  गाढ़ा हो तो समझें कि इन्फेक्शन ज्यादा  है। देरी न करे तुरन्त किसी डॉक्टर को दिखाएं।
– नाक बंद हो तो वायरल व बैक्टीरियल दोनों तरह के इन्फेक्शन हो सकते हैं। वायरल इन्फेक्शन है तो स्टीम और एंटी-एलर्जिक दवा से ठीक हो जाएगा, नहीं तो एंटीबायोटिक्स लेनी होंगी।
– जुकाम को पांच दिन से ज्यादा हो जाएं या साथ में खांसी, बलगम, बदन दर्द व बुखार भी हो, तो तुरन्त किसी अच्छे डॉक्टर से इलाज करवाये।
– अगर पीला रेशा व सांस की दिक्कत के साथ बुखार भी हो तो बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो सकता है । ऐसे में डॉक्टर के पास जाना चाहिए।
– कफ के साथ खून भी आए तो खतरनाक है। टीबी का लक्षण हो सकता है। फौरन डॉक्टर को दिखाएं।

जुकाम होने का ज्यादा डर किसे होता है:

– जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो।
– बच्चे, बूढ़े, शुगर, हाई बीपी, टीबी, दमा, हार्ट, एचआईवी, एड्स, हेपटाइटिस व एनीमिया के मरीजों के अलावा कुपोषण के शिकार लोगों को जुकाम जल्दी हो जाता है।
– जिन लोगों का शरीर सेंसिटिव है या जल्दी एलजीर्होने की टेंडेंसी है, उन्हें जुकाम जल्दी पकड़ सकता है।

कुछ सवाल जो हम लोगो को जानना जरुरी है | 

आम जुकाम कितने दिन रहता है? 
यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। वैसे तो आम जुकाम  दो-तीन में ठीक हो जाता है तो किसी का हफते भर भी लग सकता है।

बच्चों को जुकाम हो तो क्या करें? 
बेहतर यही होगा  कि उनका इलाज किसी अच्छे चाइल्ड एक्सपर्ट डॉक्टर से ही कराएं। वैसे प्रारंभिक उपचार में बच्चे को गोदी में बिठाकर थोड़ी-सी भाप दें सकते है या कोई  एंटी-एलर्जिक सीरप दें सकते है ।

स्टीम लेने का सही तरीका क्या है? 
स्टीम या तो स्टीमर से ले सकते हैं या फिर किसी बड़े बर्तन में पानी तेज गर्म करके भाप ले सकते हैं। भाप लेने से पहले सिर को तौलिए से ढक लें और जितनी देर बर्दाश्त हो, भाप लें।

क्या भाप में विक्स आदि डालें? 
विक्स को हम उपयोग में ल सकते है । इसके अलावा टिंक्चर बेंजॉइन के क्रिस्टल्स या मेंथॉल की बूंदें भी डाल सकते हैं। शुगर, बीपी, हार्ट व एनीमिया के मरीज और बच्चे भी भाप ले सकते हैं।

क्या कोल्ड्रिन, विनकोल्ड, एविल, डीकोल्ड या दूसरी ओटीसी दवाएं (जिन दवाओं के लिए डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन की जरूरत नहीं होती या जिनके ऐड आते हैं) लेनी चाहिए? इनके नुकसान क्या हैं? 
ये सभी दवाएं एंटी-एलर्जिक दवाएं की श्रेणी में आती है। ये ज्यादा फायदेमंद नहीं होती  हैं। इन दवाओं से ड्राइनेस व सुस्ती आ जाती है। इन्हें लेने के बाद रेशा सूखता है। ऐसे में नाक सूख जाने से कभी-कभी दिक्कत भी हो सकती है।  बिना डॉक्टर से पूछे ऐसी कोई भी दवा नुकसानदेह हो सकती  है । एकाध खुराक के लिए इन्हें लिया जा सकता है, पर आराम न आने पर डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

कुछ घरेलू नुस्खे जिसका इस्तेमाल से हमे आराम मिल सकता है 

-तुलसी और अदरक का रस मिला लें। इसकी आधे से एक चम्मच मात्रा लेकर थोड़ा गर्म कर लें। जब यह ठंडा हो जाए तो इसमें आधा चम्मच शहद मिला लें और दिन में तीन बार लें। शुगर वाले लोग सिर्फ एक बूंद शहद मिलाएं।
-काली मिर्च पाउडर दो चुटकी, हल्दी पाउडर दो चुटकी, सौंठ पाउडर दो चुटकी, लौंग का पाउडर एक चुटकी और बड़ी इलायची आधी चुटकी। इन सबको एक गिलास दूध में डालकर उबाल लें। इस दूध में मिश्री मिलाकर पीने से जुकाम ठीक हो जाता है। शुगर वाले मिश्री की जगह स्टीविया तुलसी का पाउडर मिला लें। यह बिना शुगर बढ़ाए मीठा स्वाद देता है। हाई बीपी व दिल के मरीज भी ले सकते हैं।
-एक बड़ी इलायची पीसकर उसमें चुटकी भर हल्दी व चुटकी भर काली मिर्च मिला लें। इसे शहद, मलाई या पानी से लें।
-आधा चम्मच सौंठ में चार दाने काली मिर्च के पीसकर मिला लें। इस पाउडर को शहद मिलाकर दिन में तीन-चार बार चाटें।
-अदरक का रस निकालकर शहद के साथ हल्का गर्म करके लें।
– काले जीरे को हल्का भूनकर सूंघने से नाक खुल जाती है।
-पाव भर दूध में दस-बारह काली मिर्च व दो-तीन बालियां केसर की मिला लें। इसके बाद मिश्री मिलाकर दूध लें। -तुलसी के दस-पंद्रह पत्ते धोकर आधी कटोरी पानी में दो-चार घंटे रख दें। तुलसी का असर उसमें आ जाएगा। इस पानी को पी लें। दिन में दो-तीन बार ऐसा करें।
-खसखस के दाने दो-तीन छोटे चम्मच और चार काली मिर्च को पीसकर मिला लें। इसे दूध में अच्छी तरह उबालकर पीने से फायदा होता है।
-तुलसी और अदरक की चाय लें।
-चाय के साथ आधी चम्मच हल्दी लें।
-सौंठ, मुलहटी, काली मिर्च व पीपली का पाउडर बना लें। चौथाई चम्मच से जरा कम शहद मिलाकर दिन में दो बार चाटें। शुगर वाले इसे मलाई से लें।
– 50 ग्राम भुने चने, 20 ग्राम कलौंजी व 10 ग्राम पनवाड़ी वाले चूने को पोटली में बांध लें। इसे तवे पर गम करके रात को बार-बार सूंघें। इसे किसी भी मौसम में किया जा सकता है। चूना व कलौंजी न मिलने पर सिर्फ चने भी सूंघ सकते हैं।
– आधा चम्मच हल्दी गर्म कर लें। इसे एक चम्मच शहद में मिलाएं और शाम या रात को लें। एक घंटे तक पानी न पीएं। मौसमी जुकाम में यह बेहतर है। शुगर के पेशंट शहद की जगह दूध या गर्म पानी में हल्दी डाल लें।
– एक चम्मच हल्दी को तवे पर गर्म करके उसका धुआं लें। आराम आ जाएगा। दिन में दो बार कर सकते हैं।
– 50 ग्राम अदरक को पानी में उबालकर उसकी भाप लें। उस गर्म पानी में तौलिया भिगोकर छाती पर रखकर सिकाई भी कर सकते हैं।
-एक तौला अदरक पीसकर भून लें। इसमें एक तौला गुड़ मिलाकर रात को खा लें। ऊपर से पानी न पीएं। दो-तीन दिन में आराम आ जाएगा।

Sardi jukam ke gharelu dawa aur ilaj  के साथ – साथ हम योग की कुछ आसनो को करके खांसी की समस्या से छुटकारा पा सकते है 

योग (Yoga)

– कुंजल क्रिया, जलनेति, कपालभाति, महावीर आसन, सूर्य नमस्कार, उत्तानपादासन, लेटकर साइकल चलाने की क्रिया, धनुरासन व भस्त्रिका प्राणायाम।
– लिंग मुद्रा व प्राण मुद्रा।
– हाथों व पैरों की उंगलियों के टिप्स या नोक (नाखून नहीं, बिल्कुल अग्रभाग) दबाने से जुकाम जल्दी ठीक हो जाता है।

Sardi jukam ke gharelu dawa aur ilaj  के साथ – साथ  कुछ चीजे है जिसे हमे ध्यान रखना चाहिए 

-सुबह के वक्त बिस्तर से उठकर नंगे पैर न चलें।
– ठंडी चीजें जैसे दही, चावल, ठंडा पानी, आइसक्रीम, केला, चॉकलेट, दूध और फ्रिज में रखी चीजो से परहेज रखना चाहिए। व ज्यादा मीठा का सेवन नहीं करना चाहिए।
-ठंडे से गर्म व गर्म से एकदम ठंडे वातावरण में न जाएं।
-पानी घूंट-घूंट करके पीएं। इससे कफ नहीं बढ़ता।
– तालू में गंदा पानी भर जाने से भी जुकाम हो जाता है। सुबह मुंह साफ करते वक्त अंगूठे से तालू को हल्का दबाएं। यह क्रिया बैठकर करें। तालू को सीधे हाथ के अंगूठे से साफ करें।
-कपड़े पहनकर सोएं, खासकर कूलर और एसी के सामने।
-एलर्जी से जुकाम हो तो पुरानी चीजें जैसे पुरानी किताबें, अलमारियां, काफी समय से न पहने गए कपड़े और कालीन साफ करके रखें। इनमें बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं।
-जुकाम व फ्लू का इंफेक्शन होने पर घर में कपूर और गुगुलू जलाएं। इसके धुएं से घर का वातावरण शुद्ध होता है और वायरस दूर हो जाता है।

निवेदन :-  यदि आपको यह Article अच्छा लगा हो तो कृपया इसे like और share करें। धन्यवाद

The post Sardi jukam ke gharelu dawa aur ilaj appeared first on Healthnuskhe.com.



This post first appeared on Health Nuskhe | Gharelu Nuskhe | Beauty Tips In Hi, please read the originial post: here

Share the post

Sardi jukam ke gharelu dawa aur ilaj

×

Subscribe to Health Nuskhe | Gharelu Nuskhe | Beauty Tips In Hi

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×