Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

हाथी पर निबंध – Essay on Elephant in Hindi

Essay on Elephant in Hindi : आज हमने हाथी पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 & 10 के विद्यार्थियों के लिए है। हाथी बुद्धिमान और बलवान जानवर है

यह इंसानों द्वारा कई सदियों से पाला जाता रहा है हिंदू धर्म में हाथी को भगवान श्री गणेश से जोड़कर देखा जाता है। अक्सर विद्यार्थियों से स्कूलों में हाथी पर निबंध लिखने के लिए दिया जाता है विद्यार्थी की सहायता के लिए हमने यह निबंध है।

essay on elephant in hindi

Get Some Essay on Elephant in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 & 10 Students.

10 Line Essay on Elephant in Hindi


(1) हाथी एक बड़े आकार का स्तनधारी जानवर है।

(2) हाथी के चार बड़े बड़े खम्बे नुमा पैर होते है।

(3) हाथी के एक लंबी सूंड होती है जिसकी सहायता से यह पानी और भोजन ग्रहण करता है।

(4) इसके दो छोटी छोटी चमकदार आंखें होती है और दो बड़े बड़े कान होते है।

(5) हाथी के एक छोटी पूछ होती है जो कि लंबे बालों से ढकी रहती है

(6) यह हल्के और गहरे स्लेटी रंग के होते है।

(7) हाथी की ऊंचाई लगभग 10 फुट तक होती है।

(8) इसके शरीर की त्वचा मोटी और संवेदनशील होती है।

(9) हाथी के मुंह में 24 दांत होते है और मुंह के बाहर दो लंबे दांत होते है जिन्हें हाथी दांत भी कहा जाता है।

(10) हाथी शाकाहारी होता है यह भोजन में घास-फूस, झाड़ियां, फल-सब्जियां इत्यादि खाता है।

Long Essay on Elephant in Hindi


प्रस्तावना –

हाथी बहुत बड़ा विशालकाय जानवर है जो कि अपनी कद काठी और बुद्धिमता के कारण जाना जाता है। यह प्रमुख रूप से एशिया और अफ्रीका में पाया जाता है।

हाथी को पुराने जमाने से ही इंसानों द्वारा पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है। पुराने समय में हाथी को भारी भरकम सामान ढोने और युद्ध करने और सर्कस में इस्तेमाल में लिया जाता था।

वर्तमान में हाथी को पर्यटन उद्योग में उपयोग में ले जाता है विदेशी लोग इसकी सवारी करना पसंद करते है। मृत्यु के उपरांत भी हाथी का शरीर बहुत बहु मिले होता है इसके हाथी दांत और ने शरीर के हिस्सों से कलात्मक वस्तुएं बनाई जाती है।

हाथी की शारीरिक संरचना –

हाथी का शरीर बहुत बड़ा होता है इसकी ऊंचाई लगभग 11 फुट होती है। इसकी एक लंबी सूंड होती है जिसकी सहायता से यह है पानी और भोजन को आसानी से ग्रहण कर लेता है।

इसकी सूंड को नाक और मुंह के ऊपरी होंठ के रूप में देख सकते है। हाथी के पैर मोटे स्तंभों या खंभों जैसे मजबूत होते है।

इसके आगे के पैरों में 4 नाखून होते है और पीछे के पैरों में 3 नाखून होते है, पैर गद्दीदार होते है जिसकी सहायता से यह अधिक समय तक खड़ा रह सकता है।

हाथी गहरे और हल्के स्लेटी रंग के होते है, इनके दो बड़े बड़े कान होते है जिसकी सहायता से यह धीमी धीमी आवाज भी सुन सकते है। इसकी दो छोटी काले रंग की चमकदार आंखें होती है।

हाथी की त्वचा बहुत मोटी होती है लेकिन मोटी होने के साथ-साथ यह संवेदनशील भी होती है जिसके कारण हाथी को प्रत्येक दिन नहाना पड़ता है। हाथी के शरीर के मुकाबले इसकी एक छोटी पुंछ भी होती है।

हाथी की जीवन शैली –

हाथी ज्यादातर जंगली इलाकों में रहना पसंद करता है यह हमेशा झुंड में ही चलता है। हाथी अपना अधिकतम समय खाना खाने में ही व्यतीत करता है। यह भोजन में हरी घास, झाड़ियां, गन्ना, फल-सब्जियां इत्यादि खाता है।

हाथी हमेशा खड़ा ही रहता है और खड़े रहकर यह अपनी नींद भी पूरी करता है। हाथी का जीवनकाल लगभग 100 वर्ष से भी अधिक होता है लेकिन प्रदूषण और जंगलों की कटाई के कारण इसकी उम्र कम होती जा रही है। यह भारत, अफ्रीका, बर्मा, श्रीलंका और थाईलैंड में पाए जाते है।

इनका स्वभाव चंचल और शांत होता है लेकिन इनके साथ गलत तरीके से पेश आने पर यह गुस्सैल भी हो जाते है और गुस्सैल होने पर इन पर काबू करना बहुत मुश्किल हो जाता है।

मादा हाथी 4 साल में एक बार गर्भ धारण करती है और एक बार में एक ही बच्चे को जन्म देती है इसकी गर्भावस्था का समय लगभग 22 महीने का होता है।

हाथी की प्रजातियां –

पृथ्वी पर हाथी की दो मुख्य प्रजातियां पाई जाती हैं जिसमें एक एशियाई आती है जिसका वैज्ञानिक नाम एल्फास़ मैक्सिम्स है और अफ्रीकन हाथी का वैज्ञानिक नाम लोक्सोडान्टा अफ्रीकाना है।

अफ्रीका के हाथी एशियाई हाथी के मुकाबले अधिक वजनदार और बड़े होते है।

हाथी के कुछ तथ्य – Information About Elephant in Hindi

(1) हाथी पृथ्वी पर पाया जाने वाला सबसे बड़ा जानवर है।

(2) एक व्यस्क हाथी का वजन है 5000 किलो से लेकर 6000 किलो तक होता है।

(3) इसका जीवनकाल लगभग 100 वर्ष का होता है लेकिन वर्तमान में प्रदूषण और भोजन की कमी के कारण इसका जीवनकाल कम ही रहता है।

(4) हाथी एक दिन में 16 घंटे केवल भोजन खाने में ही व्यतीत करता है और यह केवल 4 घंटे ही होता है।

(5) हाथी का बच्चा जन्म के समय लगभग 120 किलो का होता है और इसकी लंबाई 33 इंच होती है।

(6) नर हाथी के दो बाहरी सफेद दातों प्रतिवर्ष 7 इंच तक बढ़ते है।

(7) हाथी के मुंह में 24 दांत होते है।

(8) इसकी ऊंचाई लगभग 10 फुट होती है अभी तक सबसे अधिक ऊंचाई 13 फीट दर्ज की गई है।

(9) हाथी की इतने भारी-भरकम शरीर होने के बाद भी यह पानी में आसानी से तैराकी कर सकता है।

(10) एक व्यस्क हाथी एक दिन में 150 किलो से भी अधिक भोजन ग्रहण कर लेता है।

(11) हाथी के बच्चे को calves कहा जाता है।

(12) मादा हाथी 4 साल में एक बार ही गर्भ धारण करती है और 22 महीने के बाद एक बच्चे को जन्म देती है।

(13) हाथी अपने आप को दर्पण में देखकर पहचान सकते है।

(14) इसकी याददाश्त बहुत ही शानदार होती है यह एक बार देखी हुई वस्तु, इंसान, प्राणी को कई सालों तक की याद रखते है।

(15) यह इंसानों की तरह ही एक दूसरे की भावनाओं को आसानी से समझ सकते है।

(16) हाथी इतना संवेदनशील होता है कि यह 280 किलोमीटर दूर आ रहे तूफान, बारिश का इसे पहले से पता होता है।

(17) यह भोजन को पचाने के बाद बहुत अधिक मात्रा में मीथेन गैस छोड़ता है।

(18) वैज्ञानिकों का मानना है कि हाथी एक दिन में इतनी मात्रा में मीथेन गैस होता है कि इस से 32 किलोमीटर एक कार चलाई जा सकती है।

(19) हाथी का बच्चा जन्म के समय लगभग 120 किलो का होता है।

(20) हाथी का दिल 1 मिनट में केवल 27 बार ही धड़कता है।

(21) हाथी कूदने में असमर्थ होता है और अधिकतम 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकता है।

(22) हाथी एक दिन में 30 से 50 लीटर पानी पी जाता है।

निष्कर्ष –

बुद्धिमता और बल काम बेजोड़ मेल हाथी के अलावा शायद ही किसी अन्य प्राणी में देखने को मिलेगा। यह बहुत ही शानदार जानवर है लेकिन दिन प्रतिदिन जंगलों की कटाई होने के कारण इसके रहने का स्थान सीमित होता जा रहा है।

जिसके कारण इसकी जनसंख्या भी कम हो रही है। यह बहुत ही चिंता का विषय है कि आज जंगलों में रहने वाले प्रत्येक प्राणी को इंसानी सभ्यता से खतरा है। इसलिए हमें अधिक मात्रा में पेड़ लगाकर और जंगलों को संरक्षित करके इन प्राणियों को बचाना होगा।


यह भी पढ़ें –

शेर पर निबंध – Essay on Lion in Hindi

कुत्ता पर निबंध – Essay on Dog in Hindi

खरगोश पर निबंध – Essay on Rabbit in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Elephant in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

The post हाथी पर निबंध – Essay on Elephant in Hindi appeared first on Hindi Yatra.



This post first appeared on Hindi Yatra, please read the originial post: here

Share the post

हाथी पर निबंध – Essay on Elephant in Hindi

×

Subscribe to Hindi Yatra

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×