Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ कादम्बरी # 58 – आप बुलाने आये… ☆ आचार्य भगवत दुबे ☆

आचार्य भगवत दुबे

(संस्कारधानी जबलपुर के हमारी वरिष्ठतम पीढ़ी के साहित्यकार गुरुवर आचार्य भगवत दुबे जी को सादर चरण स्पर्श । वे आज भी हमारी उंगलियां थामकर अपने अनुभव की विरासत हमसे समय-समय पर साझा करते रहते हैं। इस पीढ़ी ने अपना सारा जीवन साहित्य सेवा में अर्पित कर दिया है।सीमित शब्दों में आपकी उपलब्धियों का उल्लेख अकल्पनीय है। आचार्य भगवत दुबे जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व की विस्तृत जानकारी के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें ☆ हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ आचार्य भगवत दुबे – व्यक्तित्व और कृतित्व ☆. आप निश्चित ही हमारे आदर्श हैं और प्रेरणा स्त्रोत हैं। हमारे विशेष अनुरोध पर आपने अपना साहित्य हमारे प्रबुद्ध पाठकों से साझा करना सहर्ष स्वीकार किया है। अब आप आचार्य जी की रचनाएँ प्रत्येक मंगलवार को आत्मसात कर सकेंगे।  आज प्रस्तुत हैं आपकी एक भावप्रवण रचना – आप बुलाने आये।)

  साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ कादम्बरी # 58 – आप बुलाने आये… ☆ आचार्य भगवत दुबे 

आज क्या बात है जो आप मनाने आये 

फिर से, अहसान नया मुझपे जताने आये

*

आये हैं आतिशी अंदाज में सँवरकर वो 

जब भी आये हैं, इसी भाँति जलाने आये

*

मेरी पुस्तक में, मिला फूल एक मुरझाया 

झूल, आँखों में कई दृश्य पुराने आये

*

आज फिर देर तक बोला मुँडेर पर कागा

लौटकर क्या, वही पल फिर से सुहाने आये

*

उनकी यादों ने, मुझे चैन से सोने न दिया

ख्वाब में आये, तो बस मुझको रुलाने आये

*

कितने परिचित, यहाँ चेहरे दिखाई देते हैं 

याद, गुजरे हुए इक साथ जमाने आये

*

लेके, सद्भाव का मरहम निकल पड़े हैं वो 

दुश्मनी, ऐसे ही हर बार भंजाने आये

https://www.bhagwatdubey.com

© आचार्य भगवत दुबे

82, पी एन्ड टी कॉलोनी, जसूजा सिटी, पोस्ट गढ़ा, जबलपुर, मध्य प्रदेश

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

The post हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ कादम्बरी # 58 – आप बुलाने आये… ☆ आचार्य भगवत दुबे ☆ appeared first on साहित्य एवं कला विमर्श.

Share the post

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ कादम्बरी # 58 – आप बुलाने आये… ☆ आचार्य भगवत दुबे ☆

×

Subscribe to ई-अभिव्यक्ति - साहित्य एवं कला विमर्श (हिन्दी/मराठी/अङ्ग्रेज़ी)

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×