Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

अभी-अभी:SC की अवमानना करने पर नागेश्वर राव को दिनभर कोर्ट में खड़े रहने की सजा,1लाख का जुर्माना

New  Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के पूर्व अंतरिम निदेश नागेश्वर राव के माफीनामे को अस्वीकार कर लिया है। साथ ही चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने अवमानना का दोषी नागेश्वर राव को ठहराया। इसके अलावा कोर्ट ने नागेश्वर राव पर एक लाख का जुर्माना और मंगलवार की कार्यवाही खत्म होने तक कोर्ट में बैठे रहने का आदेश दिया है।


चीफ जस्टिस ने नाराजगी जताते हुए कहा कि लीगल एडवाइजर ने कहा था कि एके शर्मा का ट्रांसफ़र करने से पहले सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर इजाजत मांगी जाए, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

मालूम हो कि बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप केस में जांच को यथास्थिति को बरकार रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था, जिसका उल्लंघन करते हुए नागेश्वर राव ने जांच में शामिल सीबीआई के अधिकारी एके शर्मा का ट्रांसफर कर दिया था, जिसे बाद में कोर्ट ने अवमानना का नोटिस भेज दिया था।  मालूम हो कि  राव ने सोमवार को कोर्ट में हलफननामा देकर माफी मांगी थी। साथ ही अपनी गलती स्वीकार करते हुए हलफनामे में लिखा था कि अदालत के आदेश के बिना मुख्य जांच अधिकारी का ट्रांसफर नहीं करना चाहिए था। ये मेरी गलती है कि और मैं इस गलती को स्वीकार करता हूं, लेकिन नागेश्वर राव को कोर्ट से मांफी नहीं मिली और उन्हें अवमानना का दोषी करार दे दिया।

बता दें,  नागेश्वर राव 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी है। उनकी छवि काफी साफ-सुथऱी मानी जाती है। साथ ही उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार, स्पेशल ड्यूटी मेडल समेत कई बड़े अवार्ड से नवाजा जा चुका है। वे तेलंगाना के ओडिशा कैडर के आईपीएस है और उन्हें 5 साल के लिए CBI का ज्वाइंट डायरेक्टर बनाया गया था।

तेजतर्रार अफसरों में गिने जाने वाले नागेश्वर राव ने अपने करियर की शुरूआत के दौरान चार जिलों के एसपी पद पर कार्यरत रहे। इसके बाद उन्होंने राव राउरकेला में रेलवे और कटक में क्राइम ब्रांच के एसपी के रूप में सेवा दी।

वहीं राव ने ओडिशा और पश्चिम बंगाल में हुए हाई प्रोफाइल केस चिट फंड और शारदा घोटाले की भी जांच की थी। इस दौरान उन्होंने अपनी सेवा को बखूबी दिया, जिसके कारण उन्हें ओडिशा गर्वनर मेडल और राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित किया गया।इसके अलावा राव ने सीआरपीएफ के डीआईजी पद पर भी सेवा दे चुके हैं और इस दौरान उनके द्वारा उग्रवाद के खिलाफ की गई कारवाई को काफी सराहना भी मिली थी। वहीं उन्होंने साल 2008 में लालगढ़ आपरेशन में भी अहम भूमिका निभाई थी।

The post अभी-अभी:SC की अवमानना करने पर नागेश्वर राव को दिनभर कोर्ट में खड़े रहने की सजा,1लाख का जुर्माना appeared first on Live India.



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

अभी-अभी:SC की अवमानना करने पर नागेश्वर राव को दिनभर कोर्ट में खड़े रहने की सजा,1लाख का जुर्माना

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×