Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

GST में एक बार फिर दर्ज हुई भारी गिरावट, आकड़ा हैरान करने वाला.. जाने कारण

जीएसटी में एक बार फिर दर्ज हुई भारी गिरावट, इस कड़ी में जो आंकड़े सामने आये हैं वह बेहद हैरान करने वाले हैं. वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह में अगस्त में 2.61 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई और यह घटकर 93,960 करोड़ रुपये रह गया, वित्त मंत्रालय द्वारा आज जार

पीएम मोदी ने जीएसटी को लांच कर कई नहाये प्रारूप को सामने रखा था. लेकिन इसमें तो लगातार गिरावट ही दर्ज की जा रही है. जीएसटी में एक बार फिर दर्ज हुई भारी गिरावट, इस कड़ी में जो आंकड़े सामने आये हैं वह बेहद हैरान करने वाले हैं. इस साल जुलाई में जीएसटी से 96,483 करोड़ रुपये और जून में 95,610 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ था. मंत्रालय ने कहा है कि संभवत: जुलाई में कुछ वस्तुओं पर करों की दरें घटाने के कारण ग्राहकों ने खरीद टाल दी होगी जिसकी वजह से कर संग्रह कम रहा है. करों की दरों में कमी की घोषणा 21 जुलाई को की गई थी जबकि इसके लिए अधिसूचना 27 जुलाई को जारी की गई थी. इस दौरान ग्राहक कर कम होने का इंतजार करते रहे होंगे. अगस्त में केंद्रीय जीएसटी का संग्रह 15,303 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी का 21,154 करोड़ रुपये, आईजीएसटी का 49,876 करोड़ रुपये और उपकर का 7,628 करोड़ रुपये रहा. आईजीएसटी में आयात पर प्राप्त 26,512 करोड़ रुपये और उपकर में आयात पर प्राप्त 849 करोड़ रुपये का शुल्क भी शामिल है. जुलाई के लिए 31 अगस्त तक 67 लाख जीएसटीआर 3बी फॉर्म भरे गये. जून महीने के लिए 31 जुलाई तक 66 लाख रिटर्न भरे गये थे.

रिपोट में जो आकड़े आये हैं वह बेहद हैरान करने वाले हैं. अगस्त में केंद्रीय जीएसटी के तहत 36,963 करोड़ रुपये और राज्य जीएसटी के तहत 41,136 करोड़ रुपये प्राप्त हुये. जून और जुलाई के लिए राज्यों को 14,930 करोड़ रुपये की क्षतिपूर्ति दी गयी. अगस्त में कर संग्रह कम रहने की पीछे सरकार ने और तर्क देते हुये कहा है कि आम तौर पर जुलाई की तुलना में अगस्त में कम कर जमा होता है. 



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

GST में एक बार फिर दर्ज हुई भारी गिरावट, आकड़ा हैरान करने वाला.. जाने कारण

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×