Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

अब सरकारी बैंक कर्मचारियों को भी नहीं मिलेगी फ्री की सैलरी, जितना काम उतना मिलेगा दाम

New Delhi: अक्सर देखने को मिलता है कि, सरकारी बैंक कर्मचारी लेट लतीफी और आलस के साथ काम करते हैं। वहीं उनपर काम का कोई प्रेशर भी नहीं होता है और आराम से मोटी सैलरी उठाते हैं।

लेकिन अब एक नया नियम आ गया है जिसके बाद अब वह फ्री की सैलरी नहीं उठा सकेंगे। जी हां ताजा रिपोर्ट सामने आई है जिसमे बताया गया की, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब नैशनल बैंक और बैंक ऑफ बड़ोदा पर्फॉमेंस लिंक्ड सैलरी की तैयारी कर रहे हैं। इसके तहत अब कर्मचारियों की सैलरी उनके काम पर निर्भर करेगी।

तो अगर आपभी यह खबर पढ़ रहे हैं और सरकारी बैंक में कार्यररत हैं तो यह खबर आपके लिए फायदे का सौदा होने वाली है। साथ ही इस खबर को पढ़कर आपको जोर का झटका भी लग सकता है। जी हां स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल और बड़ौदा ने नियमों में कुछ बदलाव किये हैं और इसके बाद से अब सभी कर्मचारियों की सैलरी उनके काम पर निर्भर करेगी। बोले तो जितना काम उतना दाम। ऐसा नहीं होगा कि, वह बैंक में आराम फरमाएं और महीने के आखरी में मोटी सैलरी उठा कर आराम से जीवन यापन करें।

अब ऐसे कर्मचारियों पर सख्ती होने वाली है और नए नियम के मुताबिक़, जो भी कर्मचारी जितना काम करेगा उसको उतनी ही सैलरी दी जायेगी। गौरतलब है कि, अभी प्राइवेट बैंको में काम के आधार पर ही वेतन दिया जाता है। लेकिन सरकारी बैंकों में ऐसा कोई नियम नहीं था।  वहीँ पीएनबी के मैनेजिंग डायरेक्टर सुनील मेहता ने कहा, ‘बैंक गंभीरता से पर्फॉर्मेंस बेस्ड इन्सेंटिव देने पर विचार कर रहा है।

इसमें फिक्स्ड और वैरिएबल पे शामिल होगा। लेकिन यह धीरे-धीरे लागू हो पाएगा। हालांकि यह जब भी लागू होगा उसके बाद सरकारी बैंको की कार्यशैली भी काफी बदलेगी।

The post अब सरकारी बैंक कर्मचारियों को भी नहीं मिलेगी फ्री की सैलरी, जितना काम उतना मिलेगा दाम appeared first on Bavaal.com | Top News |.



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

अब सरकारी बैंक कर्मचारियों को भी नहीं मिलेगी फ्री की सैलरी, जितना काम उतना मिलेगा दाम

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×