Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

चीन की उम्मीदों को बड़ा झटका, बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट पर नहीं मिला भारत का समर्थन

New Delhi: भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की मीटिंग के आखिरी दौर में चीन भारत से अपने महात्वाकंक्षी प्रॉजेक्ट बेल्ट एंड रोड पर समर्थन हासिल करने में विफल रहा।

मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच चीन के वुहान शहर में एक शिखर वार्ता होने वाली है। विशेषज्ञों का मानना है कि चीन को लग रहा था कि वह भारत को इस प्रॉजेक्ट के लिए साथ लाने में राजी कर लेगा लेकिन ऐसा नहीं होने पर उसकी परेशानी बढ़ गई है। 

बेल्ट एंड रोड स्कीम चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की एक महात्वाकांक्षी परियोजना है। जिसके तहत वह एशिया और बाकी देशों तक कनेक्टिविटी विकसित करना चहता है। भारत ने इस परियोजना के बेहद महत्वपूर्ण हिस्से सीआरपीसी पर साइन नहीं किया है। चाइना-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर लगभग करीब 3,78,646 करोड़ रुपये की परियोजना है, जिसका रास्ता पाक अधिकृत कश्मीर से होकर गुजरता है। 

चीन बेल्ट एंड रोड के लिए भारत को साथ लाने में सक्षम होगा या नहीं, इसे लेकर शुक्रवार और शनिवार को मोदी और जिनपिंग के बीच हो रही मीटिंग पर सबकी नजरे रहेंगी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शंघाई सहयोग संगठन के तहच विदेश मंत्रियों की मीटिंग के बाद जारी बयान में इस प्रोजेक्ट को समर्थन की बात नहीं कही है। 

पाकिस्तान के साथ भारत ने इस समूह (शंघाई सहयोग संगठन) को पिछले साल ही जॉइन किया है। भारत के अलावा, कजाकिस्तान, पाकिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान ने चीन की बेल्ट ऐंड रोड परियोजना के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। इसके लेकर कोई और स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है।

बता दें कि पिछले साल दोनो देश की सेनाएं डोकलाम के विवाद पर 73 दिन तक एक दूसरे के सामने रही थी। इस दौरान दोनों देशो के सैनिकों के बीच हिसंक झड़प भी देखने को मिली थी। 



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

चीन की उम्मीदों को बड़ा झटका, बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट पर नहीं मिला भारत का समर्थन

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×