Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने कहा- कैंसर को जड़ से खत्म कर देता है कैलाश मानसरोवर झील का पानी

New Delhi : कैंसर का इलाज बेहद महंगा और मुश्किल है लेकिन अमेरिकी वैज्ञानिकों ने इसका सरल उपाय बताया है। मानसरोवर का पानी इसका इलाज है।

NASA के वैज्ञानिकों का एक दल पिछले दिनो मानसरोवर झील घूमने आया। उन्होंने उसके कभी ना खराब होने वाले पानी का टेस्ट किया। टेस्ट में उन्होंने पाया कि मानसरोवर झील के जल में ऐसे सेल्स मौजूद हैंजो कैेंसर को जड़ से खत्म कर देते हैं। 

तमाम ग्रन्थ, पुराण बताते हैं कि कैलाश पर महादेव का वास है। हजारों लोग कैलाश के दर्शन करने जाते हैं। कुछ लोग तो सीधा महादेव तक पहुंचने की आस लेकर कैलाश मानसरोवर तक जाते हैं लेकिन दूर से ही दर्शन करके लौटना पड़ता है। आज आपको बताते हैं आखिर क्यों कैलाश पर इंसान नहीं जा पाता, वहां आखिर है क्या 

1-भगवान का स्वरूप: 

भगवान का स्वरूप, उसका आकार वास्तव में कैसा है इस सवाल का जवाब वाकई किसी के पास नहीं है। ईश्वरीय शक्ति पर विश्वास करने वाले लोग, जिन्हें सामान्य भाषा में आस्तिक कहा जाता है, जिस रूप में उस शक्ति को देखना चाहते हैं, उसे वैसा ही स्वरूप दे देते हैं।

2. देवी-देवता : 

हिन्दू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवताओं का जिक्र किया गया है, जिनका निवास स्वर्ग में बताया गया है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि महादेव शिव, जिनके हाथ में सृष्टि के विनाश की बागडोर है, अपने परिवार के साथ कैलाश पर्वत पर निवास करते हैं।

3. भगवान शिव का परिवार : 

आपको शायद इस बात पर यकीन नहीं होगा लेकिन ये सच है कि हिमालय की गोद में स्थित कैलाश पर्वत पर आज भी भगवान शिव अपने परिवार, यानि माता पार्वती, भगवान गणपति, भगवान कार्तिकेय के साथ रहते हैं।

4. मुश्किल है पहुंचना : 

वैसे तो ये भी माना जाता है कि भगवान हमेशा हमारे बीच में रहते हैं, उन्हें पहचानना और उन तक पहुंचना केवल उसी व्यक्ति के लिए संभव है जिसके अंदर वाकई अपने ईश्वर को पाने की ललक हो। लेकिन कैलाश के जिस स्थान पर भगवान शिव का वास है वहां किसी के लिए भी पहुंच पाना बेहद कठिन या कह लीजिए असंभव सा ही है।

5. बौद्ध भिक्षु : 

पौराणिक गाथाओं के अनुसार कैलाश के आसपास वातावारण में कुछ ऐसी रहस्यमयी शक्तियां मौजूद हैं जो किसी भी आम इंसान को भगवान शिव तक पहुंच बनाने नहीं देतीं। लेकिन ग्यारहवीं शताब्दी में एक बौद्ध भिक्षु ने कैलाश पर्वत पर बसे भगवान शिव के निवास तक पहुंचने की हिम्मत की थी।

6. योगी मिलारेपा : 

इतिहास के अनुसार तिब्बती बौद्ध योगी मिलारेपा एक मात्र ऐसे व्यक्ति रहे जो कैलाश पर्वत पर मौजूद रहस्यमयी शक्तियों को हराकर उस स्थान तक पहुंच पाए थे।

7. जन्नत या स्वर्ग : 

विभिन्न धर्मों में ईश्वर के निवास स्थान का उल्लेख किया गया है, जो धरती के बीचो-बीच स्थित है। किसी धर्म में इस स्थान को जन्नत कहा जाता है, कहीं स्वर्ग तो कहीं हेवेन। विभिन्न पौराणिक इतिहास में भी उत्तरी ध्रुव को ही वो स्थान माना गया है जहां देवता निवास करते हैं।

8. वैज्ञानिक खोज : 

पिछले कई वर्षों में वैज्ञानिक इस सवाल को खोजने में लगे हैं कि आखिर कैलाश पर्वत पर ऐसा क्या है जो कोई भी आम इंसान उस स्थान तक नहीं पहुंच पाता, जहां केवल एक बौद्ध भिक्षु ही पहुंचा था।

9. एक्सिस मुंड : 

अभी तक वैज्ञानिकों ने जितने भी शोध संपन्न किए हैं, उनके अनुसार एक्सिस मुंड एक ऐसा बिंदु है, जहां आकर धरती और आकाश एक दूसरे से मिलते हैं। इसी बिंदु पर अलौकिक शक्तियों का प्रवाह बहुत तेज गति से बहता है। अगर आप इस थान पर पहुंच गए तो आप भी उन शक्तियों के संपर्क में आ सकते हैं।

10. धरती और आकाश : 

जिस बिंदु पर आकार धरती और आकाश का मेल होता है, जहां ये अलौकिक शक्तियां प्रवाहित होती हैं, उस स्थान को कैलाश पर्वत कहा जाता है। कैलाश के उस स्थान तक अगर कोई पहुंच जाए, जिसके बारे में कहा जाता है वहां ये शक्तियां होती हैं, तो कोई भी साधारण मनुष्य उनका अनुभव कर सकता है।

11. तपस्या : 

पिछले कई सालों से ऋषि-मुनि इस स्थान की बात करते हैं, साथ ही ये भी कहते हैं कि वहां पहुंच बनाना बिल्कुल भी संभव नहीं है। शिव की कृपा से ही वहां उन अद्भुत शक्तियों का वास है। आज भी बहुत से साधक और ऋषि-मुनी अपनी तपस्या के बल पर इस शक्तियों की सहायता से आध्यात्मिक गुरुओं से संपर्क साधते हैं।

12. शिवलिंग : 

ऊंचाई के मामले में कैलाश पर्वत, विश्व विख्यात माउंट एवरेस्ट से ज्यादा विशाल तो नहीं है, लेकिन कैलाश की भव्यता उसके आकार में है। ध्यान से देखने पर यह पर्वत शिवलिंग के आकार का लगता है, जो पूरे साल बर्फ की चादर ओढ़े रहता है।

13. पवित्र नदियां : 

कैलाश पर्वत का भूभाग भी पवित्र नदियों से घिरा हुआ है। सिंध, ब्रह्मपुत्र, सतलुज और कर्णाली, यह सभी पवित्र नदियां कैलाश पर्वत को छूकर गुजरती हैं। नदियों के अलावा कैलाश पर्वत के पास से गुजरने वाले मानसरोवर और राक्षस झील भी दुनियाभर में अपनी पहचान बनाए हुए हैं।

14. मानसरोवर : 

कैलाश पर तप करने आए तपस्वी बताते हैं कि कैलाश मानसरोवर, उतना ही प्राचीन है जितनी कि हमारी सृष्टि। कैलाश पर्वत की तरह ही मानसरोवर में भी कुछ अलौकिक शक्तियां मौजूद रहती हैं।

15. ॐ की ध्वनि : 

जब इस स्थान पर प्रकाश तरंगों और ध्वनि तरंगों का मेल होता है तो ऐसा लगता है मानों ॐ की ध्वनि सुनाई दी गई हो। जो कि अपने आप में ही शिव की मौजूदगी को प्रमाणित करता है।

16. मृदंग की आवाज : 

प्राचीन समय से ही यह मान्यता है कि जब भी गर्मी के मौसम में कैलाश पर्वत की बर्फ पिघलने लगती है तो ऐसी आवाज आती है जैसे मानो मृदंग बज रहा हो।

17. रुद्रलोक के दर्शन : 

मान्यता तो यह भी है कि जो भी व्यक्ति मात्र एक बार मानसरोवर में डुबकी लगा ले तो उसे रुद्रलोक यानि शिव के लोक के दर्शन हो जाते हैं।



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने कहा- कैंसर को जड़ से खत्म कर देता है कैलाश मानसरोवर झील का पानी

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×