Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

बाइक पर सवार होकर 300 आतंकियों को ठिकाने लगा चुका है ये शहीद, लोग कहते हैं 'शेख ऑफ स्नाइपर्स'

...

   New Delhi: 63 साल का एक बुजुर्ग, जिसकी अचूक निशानेबाजी के कारण आतंकियों में हमेशा खौफ रहता था, वो आखिरकार आतंकियों के साथ लड़ते-लड़ते शहीद हो गया। हम यहां बात कर रहे हैं इराकी मार्क्समैन अबु तसीन अल साल्ही की जो दुनियाभर में 'शेख ऑफ स्नाइपर्स' और 'हॉक आई' नाम से मशहूर था। 63 साल की उम्र में भी ये शख्स घर में बैठने के बजाए आतंकियों से लड़ रहा था।

खूंखार आतंकी संगठन ISIS के आतंकियों से लड़ते वक्त इस वीर योद्धा की मौत हो गई। अबु का शनिवार को इराक के बसरा शहर में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान पूरा शहर भावुक हो गया और सबने इस वीर को सलामी दी।

321 आतंकियों को उतार चुके थे मौत के घाट : हॉक आई या शेख ऑफ स्नाइपर्स का नाम सुनते ही आतंकियों में भगदड़ सी मच जाती थी। 1973 के अरब-इस्राइल युद्ध में सद्धाम हुसैन के साथ लड़ चुका ये जांबाज अब तक 321 आतंकियों को मौत की नींद सुला चुका है।

अपनी बाइक से करते थे आतंकियों का पीछा: 63 साल की उम्र में भी 30 साल के सैनिक जैसा जिगरा लेकर घूमने वाला ये सिपाही अपनी ऑफ रोड बाइक लेकर अकेला ही आतंकियों के पीछे लग जाता था। दावा किया जाता है कि वो जब भी अपनी बाइक पर सवार होकर निकलते तो 4 जिहादियों को मारकर ही लौटते थे। एक साल पहले दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वो अब तक 321 आतंकियों को मार चुके हैं।

   इस वीडियो में अबु कहते हैं कि आज का दिन मेरे लिए खराब रहा, मैं सिर्फ 2 आतंकियों को ही मार पाया, लेकिन अब तक हर बार मैंने 4 आतंकी मारे हैं। वो कहते हैं कि 2015 में आतंकी संगठन ISIS के खिलाफ शुरू हुई लड़ाई में वो 173 जिहादियों को ठिकाने लगा चुके हैं।

इराक की शिया सैनिकों के ग्रुप 'हसद अल शाबी' के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर पश्चिम इराक के हवीजा में अबु शुक्रवार को IS जिहादियों से लड़ने जा रहे थे, इसी वक्त इन जिहादियों ने हमला बोल दिया और भारी गोलीबारी में फंसककर अबु की मौत हो गई।



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

बाइक पर सवार होकर 300 आतंकियों को ठिकाने लगा चुका है ये शहीद, लोग कहते हैं 'शेख ऑफ स्नाइपर्स'

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×