Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

रणजी में बड़ा ओहदा रखने वाले धोनी के इस खिलाड़ी का क्रिकेट को लेकर कुछ यूं छलका था दर्द

.

NEW DELHI : 

एक वक़्त था जब सुब्रमण्यम बद्रीनाथ को भारतीय घरेलू क्रिकेट की रन मशीन कहा जाता था। इस खिलाड़ी के बल्ले से घरेलू क्रिकेट में काफी रन निकले जिसके बिनाह पर उन्हें अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का भी मौक़ा मिला। लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट में बद्रीनाथ वो छाप छोड़ने में नाकामयाब रहे जिसके लिए वो घरेलू क्रिकेट में जाने जाते थे।

बद्रीनाथ ने काफी लंबे समय तक फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेला और 10000 से ज्यादा रन बनाए। बद्रीनाथ आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स और आरसीबी की तरफ से भी खेल चुके हैं। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में बद्रीनाथ का रिकॉर्ड शानदार रहा और उन्होंने कुल 145 मैच खेले। इन मैचों में उन्होंने 54.49 की औसत से कुल 10245 रन बनाए 32 शतक लगाए। उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 250 रन रहा। 

बद्रीनाथ से अपना दर्द बयां करते हुए बोले- “मुझे कुछ ऑफर मिले हैं लेकिन अभी तक मैंने इनको स्वीकार नहीं किया है। मुझे पता है कि करियर के इस पड़ाव पर अब मुझे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का मौका नहीं मिलेगा। अपने इस बयान से बद्रीनाथ ने यह बात तो साफ़ कर दी कि उनकी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी की उम्मीद अब ख़त्म हो चुकी है। 36 वर्षीय बद्रीनाथ ने कहा कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट के लिए परिवार से दूर रहना पड़ता है, इसके साथ ही लंबी यात्रा भी करनी पड़ती है इसलिए फिलहाल मेरा फोकस टी20 क्रिकेट पर है। गौरतलब है कि बद्रीनाथ तमिलनाडु प्रीमियर लीग में हिस्सा ले रहे हैं। 20 वर्ष तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलने वाले बद्रीनाथ ने इसे अपना व्यक्तिगत फैसला बताया। 

लंबे समय तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट से जुड़े रहने वाले बद्रीनाथ ने अपने बल्ले से हजारों रन बनाए और बड़े खिलाड़ी माने गए। इसके अलावा बद्रीनाथ ने आईपीएल में भी महेंद्र सिंह धोनी वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए शिरकत की। बद्रीनाथ ने 2011 के आईपीएल सीज़न के दौरान चयनकर्ताओं का ध्यान आकर्षित किया, जब उन्होंने अपनी टीम की सफलता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और चेन्नई सुपर किंग्स के लिए "Mr Dependable" के नाम से जाना जाने लगा। 

CSK और और घरेलू सीजन में शानदार प्रदर्शन करने के लिए उन्हें वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम में जगह मिली। वी.वी.एस. लक्ष्मण के संन्यास के बाद बद्रीनाथ को न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम में जगह मिली। हालांकि वह रणजी का अपना प्रदर्शन भारतीय टीम के लिए नहीं दोहरा पाए और भारत के लिए उन्होंने शसिर्फ 2 टेस्ट मैच, 7 वनडे मैच और एक टी-20 मैच खेला।



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

रणजी में बड़ा ओहदा रखने वाले धोनी के इस खिलाड़ी का क्रिकेट को लेकर कुछ यूं छलका था दर्द

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×