Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

पत्थरबाजों का नया इलाज, रुलाने के साथ अस्पताल पहुंचाएगा BSF का ये हथियार

New Delhi: जम्‍मू-कश्‍मीर में पत्‍थरबाजों से निपटने के लिए स्कंक बॉम्ब के बाद अब एक देशी और सस्ता उपाय सेना के जवानों को मिल गया है।

 BSF ने हाल ही में पत्थरबाजों और प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए नया स्प्रे और बम तैयार किए हैं।

तीखी मिर्चों के इस्तेमाल से बनाए गए इस बम में शिमला मिर्च का भी इस्तेमाल किया गया है। इस बारे में बीएसएफ के एक वरिष्‍ठ अधिकार ने बताया कि सुरक्षा बलों के इस्‍तेमाल के लिए नई आंसू गैस स्‍प्रे कैन और गोले के रूप में अगले महीने की शुरुआत तक तैयार हो जाएगी। उन्होंने कहा कि वैसे तो स्प्रे और बम शरीर के लिए हानिकारक नहीं है, लेकिन अगर इसकी चपेट में आने वाला कई दिनों तक खाट जरूर पकड़ लेगा। 

अधिकारी ने बताया कि देश में किसी भी जगह पर जहां कानून एवं व्‍यवस्‍था की समस्‍या है, वहां सुरक्षा बलों द्वारा इसका इस्‍तेमाल किया जा सकता है। मगर इसकी बड़ी खेप जम्‍मू-कश्‍मीर भेजी जाएगी, क्योंकि वहां आए दिन विरोध-प्रदर्शन और सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंकने की घटनाएं होती रहती हैं।

 

गोले का निर्माण बीएसएफ के टनकपुर (मध्‍य प्रदेश) स्थित टियर स्‍मोक यूनिट द्वारा किया जाएगा। पिछले साल इस यूनिट ने पावा आंसू गैस तैयार की थी। मगर सुरक्षा सूत्रों के अनुसार, यह विवादित पैलेट गन का कारगर विकल्‍प साबित नहीं हो पाई और इसलिए अन्‍य गैर-हानिकारक हथियार की मांग की गई। नई आंसू गैस के निर्माण में डीआरडीओ भी मदद करेगा। 



This post first appeared on विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत, please read the originial post: here

Share the post

पत्थरबाजों का नया इलाज, रुलाने के साथ अस्पताल पहुंचाएगा BSF का ये हथियार

×

Subscribe to विराट कोहली ने शहीदों के नाम की जीत

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×