Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी | Romeo and Juliet Story in Hindi

Romeo and Juliet – रोमियो और जूलिएट विलियम शेक्सपियर द्वारा लिखित एक शोकपूर्ण घटना है, जो उन्होंने अपने करियर के शुरुवाती दौर में लिखी थी, यह कहानी दो युवा प्रेमियों पर आधारित है और अंत में उनके झगड़ते हुए परिवारों के समाधान के लिए दोनों मर गये थे। शेक्सपियर के जीवनकाल में हैमलेट के साथ यह उनका सबसे प्रसिद्ध नाटक था और सबसे ज्यादा पर इस नाटक का प्रदर्शन इतिहास में किया गया है।

Romeo and Juliet
रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी – Romeo and Juliet Story in Hindi

रोमियो और जूलिएट की कहानी प्राचीन काल की एक रोमांचक कहानी है। उनकी कहानी इटालियन कहानियो पर आधारित है जिसे एक कविता में भी रूपांतरित किया गया है, 1562 में आर्थर ब्रूके ने दी ट्रेजिकल हिस्ट्री ऑफ़ रोमियो एंड जूलिएट के नाम से कविता बनायीं थी और 1567 में विलियम पेंटर ने इसे गद्य के रूप में पैलेस में बताया था। शेक्सपियर ने इसमें बहुत से प्रभावशाली चरित्रों का उल्लेख कर रखा था जिसमे मुख्य रूप से मरक्यूटो और पेरिस का समावेश है। कहा जाता है की इस कहानी को शेक्सपियर ने 1591 और 1595 के बीच लिखा था, और इस नाटक को किताब में 1597 में प्रकाशित किया गया था। पहली किताब में लिखे गये शब्द की गुणवत्ता काफी ख़राब थी, जबकि बाद के वर्जन में इसे अच्छी तरह से और बेहतर गुणवत्ता वाले शब्दों में प्रकाशित किया गया था।

शेक्सपियर उनकी कविताओ का उपयोग नाटकीय और हास्य रूप में करते थे, शेक्सपियर की नाटकीय कला से पहले ही लोग काफी प्रभावित थे। उन्होंने नाटक में अलग-अलग पात्र के लिए अलग-अलग विनोदी कविताओ का निर्माण कर रखा था। रोमियो और जूलिएट के नाटक में रोमियो को काफी निपुण दिखाया गया था।

रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी का उपयोग बहुत से फिल्मो, गानों और ओपेरा स्थानों पर किया गया है। इंग्लिश मरम्मत के समय, विलियम दवेनंत द्वारा इसे पुनर्जीवित किया गया था। 18 वी शताब्दी में डेविड गेरिक ने इस कहानी के बहुत से दृश्यों में काफी बदलाव किये थे, उन्होंने नाटक से अभद्र दृश्यों को निकाल दिया था और जॉर्ज बेंडा की रोमियो एंड जूलिएट में बहुत से एक्शन दृश्यों को हटाकर हैप्पी एंडिंग की गयी। 19 वी शताब्दी में इनके नाटक में बहुत से शब्दों को बदला गया और नाटक को यथार्थवादी बनाया गया। इसके बाद 20 वी और 21 वी शताब्दी में इनकी कहानी पर आधारित फिल्म रोमियो एंड जूलिएट भी बनायी गयी।

यहाँ निचे रोमियो और जूलिएट की लघु कथा निचे दी गयी है –

उनकी कहानी का सारांश –

रोमियो और जूलिएट एक पार्टी के दौरान एक दूजे के प्यार में पड़े। लेकिन वे दोनों उन परिवार से थे जो एक दुसरे से नफरत करते थे। उन्हें पूरी जानकारी थी की उनके परिवार वाले उन्हें शादी नही करने देंगे। फिर भी, उन्होंने फ्रिअर लौरेंस की सहायता से चुपके से शादी कर ली। दुर्भाग्यवश, उनकी शादी की रात से पहले ही रोमियो ने जूलिएट के भाई डूएल की हत्या कर दी थी और सुबह रोमियो ने जूलिएट को उसे छोड़ देने की जिद की। क्योकि यदि वह दोबारा कभी उस शहर में आता तो उसे मार दिया जाता था।

जूलिएट के माता-पिता ने जूलिएट को पेरिस से शादी करने के लिए कहा। लेकिन जूलिएट के माता-पिता को नही पता था की जूलिएट ने पहले से रोमियो से शादी कर ली। शुरू-शुरू ने जूलिएट ने शादी करने से मना कर दिया क्योकि जूलिएट ने अपनी मौत का बहाना बनाकर रोमियो के साथ भागने की योजना बना रखी थी, यह योजना भी उन्होंने फ्रिअर लौरेंस के साथ मिलकर ही बनायी थी।

फ्रिअर लौरेंस ने ही पूरी योजना निर्धारित कर रखी थी। उन्होंने जूलिएट को नींद की दवा दे रखी थी। जिससे ऐसा लगे की उसकी मृत्यु हो चुकी है और फिर उसे मकबरे में डाला जा सके। जबकि रोमियो को इस योजना के बारे में कुछ पता नही था, वह गंभीर बनकर वहाँ पंहुचा और रोमियो को लगा की जूलिएट सच में मर गयी है और ऐसा सोचते हुए रोमियो ने खुद की भी हत्या कर दी। और जब अंततः जूलिएट को होश आया तब उसने पाया की रोमियो मर चूका है और फिर जूलिएट ने भी खुद में मार डाला।

Also Read :-

  1. Sohni Mahiwal
  2. Laila Majnu Love Story

I hope these “Romeo and Juliet Story in Hindi language” will like you. If you like these “Short Romeo and Juliet Story in Hindi language” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit android App. Some Information taken from Wikipedia about Romeo and Juliet Story.

The post रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी | Romeo and Juliet Story in Hindi appeared first on ज्ञानी पण्डित - ज्ञान की अनमोल धारा.

Share the post

रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी | Romeo and Juliet Story in Hindi

×

Subscribe to Gyanipandit - ज्ञानी पण्डित - ज्ञान की अनमोल धारा

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×