Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

Swami Vivekananda Thoughts | स्वामी विवेकानंद के सुविचार

Swami Vivekananda thoughts

स्वामी विवेकानंद जी के प्रेरणादायक सुविचार

स्वामी विवेकानंद के सुविचार | Swami Vivekananda Thoughts In Hindi

1) कुछ मत मांगो, बदले में कुछ मत चाहो | तुम्हे जो देना है, दे दो, वह तुम्हारे पास लौटकर आएगा-पर अभी उसकी बात मत सोचो | वह वर्धित होकर-सह्स्त्रगुना वर्धित होकर वापस आएगा-पर ध्यान उधर न जाना चाहिए | तुम में केवल देने की शक्ति है | दे दो, बस बात वहीं पर समाप्त हो जाती है | – Swami Vivekananda Thoughts

2) भारत को कम से कम अपने सहस्त्र तरुण मनुष्यों की बलि की आवश्कता है, पर ध्यान रहे-‘मनुष्यों की बलि (दान) ‘पशुओं’ की नहीं |

3) मुक्ति उसी के लिए है, जो दुसरों के लिए सब कुछ त्याग देता है और दुसरे, जो दिन-रात ‘मेरी मुक्ति,  मेरी मुक्ति’ कहकर माथापच्ची करते रहते हैं, वे वर्तमान और भविष्य में होने वाले अपने सच्चे कल्याण की सम्भावना को नष्ट कर यत्र-तत्र भटकते फिरते हैं | मैंने स्वयं अपनी आंखों ऐसा अनेक बार देखा है |

4) महान बनो |त्याग बिना कोई भी महान कार्य सिध्द नहीं हो सकता | इस जगत की सृष्टि के लिए स्वयं उन विराट पुरुष भगवान को भी अपनी बलि देनी पड़ी |आओ, अपने एश-आराम, नाम-यश, एश्वर्य, यहां तक कि अपने जीवन को भी निछावर कर, मानव-श्रुंखला का एक सेतु निर्माण कर डालो, ताकि उस पर से होकर लाखों जीवात्माएं इस भवसागर को पार कर लें |

5) विकास ही जीवन है और संकोच ही मृत्यु | प्रेम ही विकास है और स्वार्थपरता ही संकोच | अतएव प्रेम ही जीवन का एकमात्र नियम है | जो प्रेम करता है, वह जीता है, जो स्वार्थी है, वह मरता है | अतएव प्रेम के लिए ही प्रेम करो, क्योंकि प्रेम ही जीवन का एकमात्र नियम है |

6) एक समय आता है, जब मनुष्य अनुभव करता है कि थोड़ी-सी मनुष्य की सेवा करना लाखों जप-ध्यान से कहीं बढ़कर है | – स्वामी विवेकानंद

  • प्रेरणादायक :- स्वामी विवेकानंद जी के प्रेरक प्रसंग
  • भाषण :-  स्वामी विवेकानंद जी का प्रेरणादायक भाषण
  • जरुर पढ़े :- स्वामी विवेकानंद के जीवन के 11 प्रेरणादायक संदेश

7) वेदान्त परमात्मा के सर्वव्यापक होने से भी आगे की बात समझाता है | वेदान्त के अनुसार, यह समूची सृष्टि परमात्मा का ही विभिन्न नाम-रूपों में प्रकट होना है | तभी तो सच्चा वेदांती सृष्टि के जड़-चेतन से आत्मवत् प्रेम करता है |

8) यदि हम अपनी प्रार्थना में कहें कि भगवान ही हम सबके पिता हैं और अपने दैनिक जीवन में प्रत्येक मनुष्य को अपना भाई न समझें, तो फिर उसकी सार्थकता ही क्या ?

9) प्राचीन धर्मों ने कहा, “वह नास्तिक है, जो भगवान् में विश्वास नहीं करता |” नया धर्म कहता है, “नास्तिक वह है जो स्वयं पर विश्वास नहीं करता |”

10) अहा ! यदि केवल तुम जन लेते कि तुम कौन हो ! तुम आत्मा हो, तुम ईश्वर हो | यदि कोई अधार्मिक बात है, तो वह है तुमको मनुष्य कहना |

11) वेदांत का आचरण सहज रूप से समस्त निराशाओं, चिंताओं, विषादों, तनावों से आपको सदा-सदा के लिए मुक्त करता है |

12) धर्म-ग्रंथ जिन सद्गुणों को अपनाने की बात करते हैं, वे अनायास उससे प्रवाहित होते हैं, जो वेदांत का आचरण करता है |

स्वामी विवेकानंद अनमोल विचार :-  Swami Vivekananda quotes in Hindi with images

स्वामी विवेकानंद जीवनी :-  स्वामी विवेकानंद जी का जीवन परिचय

Please Note :- अगर आपको हमारे Swami Vivekananda thoughts in Hindi अच्छे लगे तो जरुर हमें Facebook और Whatsapp Status पर Share कीजिये. और फ्री E-MAIL Subscription करना मत भूले.
Special thanks to Brainy Quote
These Swami Vivekananda thoughts used on:- Thoughts by Swami Vivekananda, Saying of Swami Vivekananda, swami vivekananda sayings for youth, Swami Vivekananda thoughts in Hindi, Swami Vivekananda thoughts, स्वामी विवेकानंद के अनमोल सुविचार

The post Swami Vivekananda Thoughts | स्वामी विवेकानंद के सुविचार appeared first on ज्ञानी पण्डित - ज्ञान की अनमोल धारा.

Share the post

Swami Vivekananda Thoughts | स्वामी विवेकानंद के सुविचार

×

Subscribe to Gyanipandit - ज्ञानी पण्डित - ज्ञान की अनमोल धारा

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×