Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

आन्तरिक प्रेरणा

आन्तरिक  प्रेरणा


एक  लड़का  रोज  क्रिकेट  खेलने  की  प्रैक्टिस  करने  लगातार   जाता  था ,  लेकिन  वह  कभी  टीम  में   शामिल  नहीं  हो  सका ।  जब  वह  प्रैक्टिस  करता  था , तो  उसके  पिता  मैदान  के  किनारे  बैठ  कर  उसका  इंतजार  करते  रहते  थे । सीरीज  मैच  शुरू  हुए  तो  वह  लड़का  सात  दिन  तक  प्रैक्टिस  करने  नहीं  आया । वह  क्वार्टर  और  सेमीफाइनल  मैच  मे  भी  नहीं  आया ।

लेकिन  वह  लड़का  फाइनल  मैच  के  दिन  आया  और  उसने  कोच  के  पास  जाकर  कहा , आप  ने  मुझे  हमेशा  रिजर्व  खिलाड़ियो  मे  रखा  और  कभी  टीम  में  खेलने  नहीं  दिया , लेकिन  कृपा  करके  आज  मुझे  खेलने  दें।  कोच  ने  कहा  बेटा  मुझे  दु:ख  है  कि  मै  तुमको  यह  मौका  नहीं  दें  सकता ।  टीम  में  तुम  से  भी  अच्छे  खिलाड़ी  हैं । इसके  अलावा  यह  फाइनल  मैच  है । स्कूल  की  इज्जत  दाव  पर  लगी  है ।

लड़के  ने  मिन्नते  करते  हुए  कहा,  सर  मै  आपसे  वादा  करता  हूँ  कि  मै  आपके  विश्वास  को  नहीं  तोडूँगा  आप  मुझे  खेलने  का  मौका  दें।  कोच ने कहा -  ठीक  है  बेटा  जाओ  खेलो , पर  मुझे  शर्मिदा  मत  करना । मैच  शुरू  हुआ  और  लड़का  तूफान  की   तरह  खेला ।  कहना  न  होगा  कि  वह  मैच  का  हीरो  बन  गया ।  उसकी  टीम  को  शानदार  जीत  मिली ।

खेल  खत्म  होने  के  बाद  कोच  ने  उस  लड़के  के  पास  जाकर  कहा ,  बेटा  मैं  इतना  गलत  कैसे  हो  सकता  हूँ ? मैने  तुम्हे  कभी  इस  चरह  खेलते  नहीं  देखा , तुम  इतना  अच्छा  कैसे  खेले  ? लड़के  ने  कहा -  कोच  आज  मुझे  मेरे  पिताजी  खेलते  देख  रहे  थे। कोच  ने  उस  जगह  को  देखा  जहाँ  उसके  पिता  बैठा  करते  थे, लेकिन  वहा  कोई  नहीं  था । कोच  ने  कहा  -  आज  वहाँ  पर  कोई  नहीं  बैठा  है ।  लड़के ने  कहा - कोच  मैने  आपको  यह  कभी  नहीं  बताया  कि  मेरे  पिताजी  अन्धे  थे । चार  दिन  पहले  उनकी  मृत्यु  हो  गई । अाज  वह  मुझे  ऊपर  से  देख  रहे  हैं ।

अन्य  सम्बधित  कहानी 
युवा तेज गेंदबाज नाथू सिंह
एक गिलास दूध
सच्ची मदद
कौन हो तुम ?
आपको कल वही मिलने वाला है

यदि आपके पास Hindi में कोई  article , inspirational  story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id:[email protected]पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Tag :- 


  • kahani munshi premchand ki
  • hindi kahani 
  • hindi kahaniya
  • hindi kahaniyan for kids
  • free hindi kahani sangrah
  • hindi kahani pdf
  •  kahani sangrah
  • mansarovar kahani sangrah
  • Hindi Kahani Sangrah/हिन्दी कहानी संग्रह






  • This post first appeared on TLMOM Best Motivation Blog In Hindi Language, please read the originial post: here

    Share the post

    आन्तरिक प्रेरणा

    ×

    Subscribe to Tlmom Best Motivation Blog In Hindi Language

    Get updates delivered right to your inbox!

    Thank you for your subscription

    ×