Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

सियाचिन में सैनिकों तक ऑक्सीजन प्लांट पहुंचाने के लिए दंपति ने बेचा जेवर

 Pune Couple Siachen Army Oxygen Plant : नए ऑक्सीजन प्लाट लगाने के लिए पुणे के इस दंपति ने 1.25 लाख की करी मदद 

Pune Couple Siachen Army Oxygen Plant : पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने कहा था जय जवान तो जय किसान और हो भी क्यों ना इस देश की हर पल रक्षा करने वाले सैनिकों की हमेशा जय होनी ही चाहिए.

हम आम लोग आज अगर खुशी से घर के अंदर चैन की सांस ले रहे हैं तो सिर्फ उन सैनिकों की वजह से जो हमेशा हमारी सुरक्षा के लिए तत्पर रहते हैं.
ऐसे में हमारी भी जिम्मेदारी बनती है कि मौका मिलने पर हम भी उनके लिए कुछ करें ताकि एक छोटे स्तर पर ही सही मगर उनकी मदद में कुछ तो सहयोग कर सकें.
ऐसी ही एक पहल को अंजाम दिया है पुणे के दंपति ने, इस दंपति ने सियाचिन में सैनिकों के लिए बनने वाले ऑक्सीजन प्लांट में एक बड़ी राशि दान करने का फैसला लिया है.
बता दें कि दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन में ठंडी हवाएं, कठिन इलाके, बर्फ के मैदानों और कम ऑक्सीजन के साथ इंसान का रहना बहुत मुश्किल होता है.
इसलिए भारतीय सैनिकों के लिए इतनी उंचाई पर बसे सियाचिन ग्लेशियर में सांस लेने में होने वाली दिक्कत को कम करने के लिए एक ऑक्सीजन प्लांट खोले जाने की योजना है, जिसपर करीब 1.12 करोड़ का खर्च आएगा .
यह भी पढ़ें – ऑनलाइन पोर्टल की मदद से रिटायर के बाद खाली बैठे बुजुर्गों को मिल रहा रोजगार
इस पूरी राशि में अपनी तरफ से भी कुछ सहयोग करने के लिए सुमेधा और योगेश चित्तादे ने ऑक्सीजन उत्पादन करने वाले प्लांट के लिए 1.25 लाख रुपये जुटाने के लिए अपने आभूषण बेचकर एक उदाहरण स्थापित किया है.
आर्मी में एक मेजर रैंक के अफसर की मां सुमेधा ने अपनी बालियां बेच कर पैसों का इंतजाम करमे पर बताया कि उनके द्वारा इस तरह के दान की शुरूआत करना काफी गर्व की बात है, क्योंकि वह सेना को अपने परिवार के रूप में मानती है.
सुमेधा ने बताया कि वो 1999 से सेना कल्याण के लिए काम कर रही हैं,लेकिन जब वो काम के सिलसिले में सियाचिन बेस शिविर में थी तो उन्हें पता चला कि वहां की जलवायु बेहद कठोर है. वहां का तापमान गर्मी और ठंड हमेशा माइनस में ही रहता है.
गौरतलब है कि इस प्लांट का उपयोग सेना द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले ऑक्सीजन सिलेंडरों को फिर से भरने के लिए किया जाएगा.
वहीं एक स्कूल शिक्षक ने कहा कि उन्होंने कोई आभूषण नहीं बेचा है लेकिन इस योजना में दान करने की शुरुआत जरूर कर दी है. इसके बाद अगर आवश्यक हो तो वो और अधिक योगदान देने के लिए भी त्तपर हैं.
चित्तादे दंपति के द्वारा शुरू गई इस पहल से आने वाले समय में जरूर भारत के लिए एक सीख मिलेगी जिससे वो भी अपने देश के सीमा पर तैनात जवानों तक बेहतर से बेहतर चीजे पहुंचाने में मदद कर सकेंगे.

साभार – इंडिया टूडे

The post सियाचिन में सैनिकों तक ऑक्सीजन प्लांट पहुंचाने के लिए दंपति ने बेचा जेवर appeared first on HumanJunction.

Share the post

सियाचिन में सैनिकों तक ऑक्सीजन प्लांट पहुंचाने के लिए दंपति ने बेचा जेवर

×

Subscribe to Positive News India | Hindi Positive News | हिंदी समाचार | Humanjunction

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×