Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

केरल के इंजीनियरिंग छात्रों ने आवाज से चलने वाली व्हीलचेयर का किया अविष्कार

Voice Controlled Wheelchair : माइक्रो कंट्रोल पर वॉयस मॉड्यूल नाम की एक छोटी चिप के माध्यम से काम करेगी यह व्हीलचेयर

Voice Controlled Wheelchair : हम अक्सर सड़क पर गुजरते हुए दिव्यांगो को भीड़ के बीच कई तरह कि चुनौतियों का सामना करते देखते हैं.

कोई बैसाखी का सहरा लेकर भीड़ से निकलने की कोशिश करता है तो कोई अपनी व्हीलचेयर के पैडल मारते हुए लोगों से बचता दिखाई देता है. ऐसे में लोगों के बीच फंस कर कई बोर वो चोटिल तक हो जाते हैं.
दिव्यांगो की इस परेशानी का तोड़ निकाला है इंजीनियरिंग के कुछ छात्रों ने, दरअसल केरल के पलक्कड़ NSS इंजीनियरिंग कॉलेज के अंतिम साल के छात्रों के ग्रुप ने एक ऐसी व्हीलचेयर बनाई है जो चेयर पर बैठने वाले की आवाज सुनकर प्रतिक्रिया करेगी.
बता दें कि छात्रों द्वारा बनाई गई यह वॉयस-कंट्रोल्ड व्हीलचेयर बाजार में उपलब्ध है लेकिन अभी यह आम आदमी के लिए बहुत ही महंगी है. छात्रों का कहना है कि वे जल्दी ही सस्ती कीमतों वाली व्हीलचेयर को भी बनाकर बाजार में ले आएंगे.
यह भी पढ़ें – Indian Government Handicapped Help: भारत सरकार ने तीन सालों में दिव्यांगों की मदद पर खर्च किए 466 करोड़
इस वजह से है खास
इस व्हीलचेयर के बारे में बताते हुए छात्रों ने कहा कि यह चेयर कार वाइपर की मोटर को जोड़कर बनाई गई है, जिसे बनाने में करीब 8000 रुपये से अधिक का खर्च आया है.
दरअसल इस व्हीलचेयर में माइक्रो नियंत्रक पर वॉयस मॉड्यूल नामक एक छोटी चिप स्थापित की गई है जिसके माध्यम से व्हीलचेयर को निर्देश दिए जाते हैं.
इस व्हीलचेयर का चक्र पहियों से जुड़ा है जो लोहे का फ्रेम है. यह फाइबर फ्रेम के साथ लोहे के फ्रेम को बदलने और व्हीलचेयर के वजन को कम करने में मददगार साबित होगा.
छात्रों ने बताया कि 75 किलो तक वजन वाले लोग इस व्हीलचेयर का उपयोग आसानी से कर सकते हैं.
फिलहाल छात्रों ने दावा करते हुए बताया है कि वे 10,000 रुपये की कीमत खर्च करके बेहतर मोटर और अन्य सुविधाओं के साथ अन्य व्हीलचेयर का विकास कर सकते हैं.
अंतिम वर्ष में पढ़ने वाले इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स के छात्रों के ग्रुप ने कहा कि वे अस्पतालों और उपद्रव देखभाल इकाइयों के लिए अधिक आवाज नियंत्रित करने वाली व्हीलचेयर बनाने के लिए भी प्रयासरत हैं.
यह भी पढ़ें – Handicapped College Fee: अब ओडिसा में बिना किसी शुल्क के उच्च शिक्षा पा सकेंगे दिव्यांग
आपको बता दें कि जिथु एस, एम लेकिथ, सीके मनु शंकर और सीएस शिल्पा और अन्य छात्रों द्वारा इस व्हीलचेयर को डिजाइन किया गया है.
वहीं छात्रों द्वारा इजात की गई व्हीलचेयर की सराहना करते हुए इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के प्रमुख डॉ वी देवी और प्रोफेसर सी प्रवीण कुमार ने कहा कि यह अविष्कार व्हीलचेयर के संचालन में बहुत सुधार लायेगा.

The post केरल के इंजीनियरिंग छात्रों ने आवाज से चलने वाली व्हीलचेयर का किया अविष्कार appeared first on HumanJunction.

Share the post

केरल के इंजीनियरिंग छात्रों ने आवाज से चलने वाली व्हीलचेयर का किया अविष्कार

×

Subscribe to Positive News India | Hindi Positive News | हिंदी समाचार | Humanjunction

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×