Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

इस्लाम को त्यागकर शादी के लिए हिन्दू धर्म अपनाया लेकिन ? : छत्तीसगढ़ का मामला

converted to hinduism for marriage what happened

सुप्रीम कोर्ट ने छत्तीसगढ़ के चर्चित मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी उर्फ़ आर्यन आर्य मामले में इब्राहिम की पत्नी अंजलि जैन को उनकी इच्छा के अनुरुप माता-पिता के साथ रहने का फ़ैसला सुनाया है. मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी मुस्लिम थे और उन्होंने हिन्दू लड़की अंजलि से शादी करने के लिए हिन्दू धर्म अपनाया था उसके बाद वह आर्यन आर्य बने, लेकिन दुर्भाग्यवश यह शादी आखिर तक चल नहीं सकी।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की पीठ ने अंजलि जैन से उनके विवाह के बारे में पूछताछ की और उनकी इच्छा के अनुरूप उन्हें माता-पिता के साथ रहने की इजाज़त दे दी। यह मामला केरल की हादिया केस जैसा ही था। इब्राहिम सिद्दीक़ी उर्फ आर्यन आर्य ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, उनका कहना था कि उनकी बालिग पत्नी अंजलि जैन की इच्छा के बाद भी हाईकोर्ट ने उन्हें छात्रावास या माता-पिता के साथ रहने का फ़ैसला सुनाया है, जो न्यायसम्मत नहीं है।

अदालत की सुनवाई के बाद इब्राहिम सिद्दीक़ी उर्फ आर्यन आर्य के वकील ने कहा, “अदालत ने उनके परिजनों को कोर्ट रुम से बाहर भेजकर उनसे पूछा कि वे पति के साथ रहना चाहती हैं या अपने माता-पिता के साथ रहना चाहती हैं. जिस पर अंजलि जैन ने अपने माता-पिता के साथ रहने की इच्छा जताई.”

इधर मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी उर्फ़ आर्यन आर्य नाराज दिखे और उन्होंने कहा, “मैंने अपनी पत्नी अंजलि के कहने पर ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. लेकिन अंजलि ने किन कारणों से अपने माता-पिता के साथ जाने का फ़ैसला किया, मेरे लिये यह समझ पाना मुश्किल है.”

  • आखिर क्या है यह मामला ?

छत्तीसगढ़ के धमतरी के रहने वाले 33 वर्षीय मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी और 23 वर्षीय अंजलि जैन ने दो साल की जान-पहचान के बाद एक दूसरे के प्यार में गिरे लेकिन अलग धर्म होने की वजह शादी का मुख्य रोड़ा बनी हुई थी , जिसके चलते मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीक़ी ने इस्लाम को त्याग दिया और हिन्दू धर्म को अपना लिया बादमे 25 फरवरी 2018 को रायपुर के आर्य मंदिर में शादी की थी. इब्राहिम का दावा है कि उन्होंने शादी से पहले हिंदू धर्म अपना लिया था. इसके बाद उन्होंने अपना नाम आर्यन आर्य रखा था.

मोहम्मद इब्राहिम सिद्दकी उर्फ आर्यन आर्य के अनुसार, “शादी की ख़बर जैसे ही मेरी पत्नी अंजलि के परिजनों को मिली, उन्होंने मेरी पत्नी को घर में क़ैद कर लिया. मैंने बहुत कोशिश की कि किसी भी तरह अंजलि से मेरी मुलाकात हो लेकिन यह संभव नहीं हो पाया.”

उसके बाद मोहम्मद इब्राहिम सिद्दकीने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करते हुये न्यायालय से अपनी पत्नी अंजलि जैन को वापस किये जाने की गुहार लगाई, लेकिन छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने अंजलि जैन को सोच-विचार के लिये समय देते हुये छात्रावास में या माता-पिता के साथ रहने का आदेश पारित करते हुये मामले को ख़ारिज कर दिया. अंजलि जैन ने माता-पिता के बजाय छात्रावास में रहना तय किया था.

इसके बाद इब्राहिम ने हाईकोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, लेकिन इसका भी कोई फायदा नहीं हुआ।



This post first appeared on Hindi News India, please read the originial post: here

Share the post

इस्लाम को त्यागकर शादी के लिए हिन्दू धर्म अपनाया लेकिन ? : छत्तीसगढ़ का मामला

×

Subscribe to Hindi News India

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×