Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) में आत्मविश्वास भरने वाले 7 लोग कौन हैं जान लीजिए

अखिलेश यादव की चुनावी रणनीति पर अमरीकी रणनीतिकार और हॉर्वर्ड विश्वविद्यालय में पब्लिक पॉलिसी के प्रोफ़ेसर स्टीव जार्डिंग काम कर रहे हैं. इसके अलावा अखिलेश तमाम अधिकारियों और सलाहकारों से मशविरा करते रहते हैं. लेकिन समाजवादी पार्टी में उनके कुछ ख़ास ऐसे क़रीबी लोग हैं जिन पर वो बहुत भरोसा करते हैं. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) में आत्मविश्वास भरने वाले 7 लोग कौन हैं जान लीजिए.

1. उदयवीर सिंह

उदयवीर सिंह धौलपुर के उसी मिलिट्री स्कूल से पढ़े हैं जहां से अखिलेश ने पढ़ाई की है. अखिलेश यादव, उदयवीर से दो साल सीनियर थे. उदयवीर ने आगरा के सेंट जॉन्स कॉलेज से ग्रेजुएशन किया और फिर दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से एमए और एमफ़िल की डिग्री ली.

2. सुनील यादव ‘साजन’

सुनील यादव ने लखनऊ में केकेसी डिग्री कॉलेज के छात्र संघ से राजनीति की शुरुआत की. यूं तो वो अखिलेश यादव के संपर्क में क़रीब एक दशक से हैं लेकिन 2012 के विधानसभा चुनाव से पहले जब तत्कालीन मायावती सरकार के ख़िलाफ़ अखिलेश संघर्ष कर रहे थे, उस दौरान वो उनके क़रीब आए. समाजवादी छात्र सभा का प्रदेश अध्यक्ष होने के अलावा अखिलेश यादव ने सरकार बनने के बाद पहले उन्हें राज्य मंत्री का दर्जा दिलाया और बाद में एमएलसी बनवाया. सुनील, अखिलेश यादव की युवा ब्रिगेड की कोर टीम के सदस्य हैं.

3. आनंद भदौरिया

इन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र संघ से राजनीति की शुरुआत की. आनंद भदौरिया उस वक़्त चर्चा में आए जब बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की सरकार के दौरान एक पुलिस अधिकारी के पैरों से रौंदी जा रही उनकी तस्वीर अख़बारों में छपी थी. बाद में भदौरिया समाजवादी पार्टी के फ्रंटल संगठन लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिए गए. उसके बाद अखिलेश ने उन्हें विधान परिषद भी भेजा.

4. संजय लाठर

संजय लाठर यूं तो हरियाणा के रहने वाले हैं. लेकिन अखिलेश यादव से क़रीबी की वजह से वो पार्टी में अहम स्थान हासिल कर चुके हैं. इस क़रीबी की बदौलत वो पार्टी की युवजन सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए. क़ानून में मास्टर्स और पत्रकारिता में पीएचडी प्राप्त संजय समाजवादी पार्टी से विधान सभा चुनाव भी लड़ चुके हैं. उन्हें भी विधान परिषद की सदस्यता पुरस्कार के रूप में मिली.

5. एसआरएस यादव

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और सलाहकारों में से एक हैं. एसआरएस यादव पहले कोऑपरेटिव बैंक में नौकरी करते थे. उसी दौरान वो मुलायम सिंह यादव के संपर्क में आए. रिटायर होने के बाद वो सपा में कार्यालय प्रभारी हो गए और फ़िलहाल एमएलसी हैं. मुलायम और अखिलेश के बीच तनाव के बावजूद, एसआरएस यादव दोनों के ही काफ़ी क़रीबी हैं.

6. अभिषेक मिश्र.

अभिषेक मिश्र की विदेश में पढ़े होने के कारण एक अलग पहचान है. उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ नौकरशाह के बेटे अभिषेक को 2012 में अखिलेश यादव ने ही लखनऊ उत्तर सीट से चुनाव लड़ाकर पहली बार में ही विधायक बनाया. अखिलेश यादव ने उन्हें अपनी मंत्रिपरिषद में भी जगह दी. विधायक बनने से पहले अभिषेक मिश्र आईआईएम अहमदाबाद में पढ़ाते थे. इनको बड़ी संख्या में निवेशकों को बुलाने और यहां निवेश के लिए तैयार करने का भी श्रेय दिया जाता है. इसके अलावा वो अखिलेश यादव के राजनीतिक और सरकारी दोनों स्तरों पर प्रमुख रणनीतिकारों में से एक माने जाते हैं.

7. राजेंद्र चौधरी.

ये अखिलेश यादव के साथ हमेशा साये की तरह रहते हैं. कैबिनेट मंत्री राजेंद्र चौधरी भी उन कुछ लोगों में से एक हैं जो पहले मुलायम अब अखिलेश के क़रीबी हैं. ग़ाज़ियाबाद के रहने वाले राजेंद्र चौधरी अखिलेश के प्रमुख राजनीतिक सलाहकार भी हैं. सरकार के प्रवक्ता भी हैं. अखिलेश के क़रीबी बताते हैं कि राजेंद्र चौधरी अखिलेश के किसी भी फ़ैसले को उनसे पलटवाने की भी क्षमता रखते हैं.

अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) में आत्मविश्वास भरने वाले 7 लोग कौन हैं जान लीजिए is a post from ExGag.



This post first appeared on Entertainment, Lifestyle, Latest News, Fashion, Technology And Video, please read the originial post: here

Share the post

अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) में आत्मविश्वास भरने वाले 7 लोग कौन हैं जान लीजिए

×

Subscribe to Entertainment, Lifestyle, Latest News, Fashion, Technology And Video

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×