Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

Parkinson Treatment in Ayurveda पार्किंसन रोग के लक्षण, कारण, हर्बल एवं आयुर्वेदिक उपचार

Tags:
Parkinson Treatment In Ayurveda पार्किंसन रोग के लक्षण, कारण, हर्बल एवं आयुर्वेदिक उपचार

Parkinson Treatment in Ayurveda, पार्किंसन रोग के लक्षण, कारण, हर्बल एवं आयुर्वेदिक उपचार: अधिक मानसिक तनाव, Electro-Radiation's,आधुनिक जीवन शैली एवं अन्य कोई भी बाहरी अथवा आंतरिक कारण जिसके द्वारा मस्तिष्क में रसायन पैदा करने वाली कोशिकाये कम या गायब होने लगती है तो Parkinsons जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती है।

            इस रोग में प्रायः एक ओर के हाथ की कलाई अंगुलियां, कंधे कांपने लगते है। धीरे-धीरे दोनों तरफ भी हो सकते है। जो धीरे-धीरे पैरों एवं गर्दन तक पहुँच जाता है।

            इसके कारण व्यक्ति की दैनिक शारीरिक व मानसिक कार्यक्षमता कम होने लगती है।

            यदि सही समय पर इसका इलाज नहीं किया जाता है तो बीमारी के अधिक बढ़ने पर लकवा, Brain Aattack; Heart Aattack जैसी आपातकालीन समस्यायें भी उत्पन्न होने की संभावना रहती है।

            प्रायः यह बीमारी 60-70 वर्ष के ऊपर के लोगों में देखने को मिलती थी लेकिन आज मानसिक तनाव के साथ-साथ और भी हजारों कारण है जिसके फलस्वरूप यह बीमारी सभी उम्र के लोगों में होने लगी है।

पार्किंसन के लक्षण – Parkinson Symptoms in Hindi

1. एक हाथ/कलाई/अंगुलियों का कांपना।

2. साधारण काम जैसे - लिखना, बटन लगाना, दाढ़ी बनाना, सुई में धागा पिरोना आदि में कठिनाई।

3. पैर घसीट कर चलना।

4. धीरे-धीरे व देर से उठना।

5. शारीरिक व मानसिक गतिविधियाँ कम होना।

6. शरीर में जकड़न महसूस होना।

7. खड़े व चलते समय थोड़ा झुककर चलना एवं घुटने व कोहनी का मुड़ा रहना।

8. आँखों का झपकना कम हो जाता है।

9. हँसना, क्रोध, भय, खुशी के भाव बहुत कम प्रकट होना।

10. खाने में तकलीफ होना/भोजन निगलने में परेशानी, खाना धीमे चबाना एवं मुँह से लार टपकने लगती है।

11. कम्पन के कारण चाय का कप व पानी का गिलास छलकने लगता है।

12. नींद में कमी, चक्कर आना, खड़े होने पर अंधेरा आना।

पार्किंसन के कारण – Parkinson Causes in Hindi

Parkinson's  का मुख्य कारण है-मध्य मस्तिष्क (CNS) की कोशिकाओं का कम होना या नष्ट होना जिसके द्वारा बनने वाला रसायन ‘‘डोपामीन’’ की मात्रा कम होना या न बनना एवं अन्य कारण:-

1. Neuro drag's / Medition's  के Side effect's

2. Brain Blood Supply कम होना।

3. Viral Inf. इन्फेक्शन जल्दी होना।

4. इलैक्ट्रो रेडिएसन।

5. अत्यधिक नशीले पदार्थों का सेवन।

Parkinson's एक बहुत ही गंभीर समस्या है। क्योंकि इस बीमारी को आसानी से एवं साधारण चिकित्सा द्वारा ठीक नहीं किया जा सकता।

Parkinson Treatment in Ayurveda/ पार्किंसन का प्राकृतिक व आयुर्वेदिक उपचार

            इस गंभीर बीमारी को ठीक करने के लिये M sons Herbal Daily Limited के उत्पाद उपलब्ध है। जिसका उपयोग कर बहुत सारे लोग Parkinson's जैसे गंभीर रोग खत्म कर चुके है या कंट्रोल कर चुके हैं।

यदि आपके परिवार / समाज में कोई Parkinson's  जैसी बीमारी से पीड़ित है और इस गंभीर बीमारी को पूर्णता ठीक करना चाहते है तो आप भी Herbal Daily® का Parkinsons care pack [brahmi Syrup, Body Balance Veg. Cap., Vedic Ghee, Sankhpushpi Veg. Cap.]  का उपयोग कर इस रोग से पूर्णतः छुटकारा या कंट्रोल कर सकते हैं।

Herbal Daily Brahmi:

Herbal Daily Body Balance Veg. Capsules:

Herbal Daily Vedic Ghee:

Herbal Daily Sankhpushpi Veg. Capsules

Herbal Daily की सभी औषधियाँ 100% Natural है। जिनका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। सभी औषधियाँ सिरप व वेज केप्सूल में उपलब्ध है।

Learn more:

Brahmi Benefits | Herbal Daily Bacopa Monnieri Dosage & Its Side-Effects

The post Parkinson Treatment in Ayurveda पार्किंसन रोग के लक्षण, कारण, हर्बल एवं आयुर्वेदिक उपचार appeared first on Health Indian.



This post first appeared on 101 Ways To Stay Healthy Naturally, please read the originial post: here

Share the post

Parkinson Treatment in Ayurveda पार्किंसन रोग के लक्षण, कारण, हर्बल एवं आयुर्वेदिक उपचार

×