Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

NACH मैंडेट कैसे काम करता है Urgent जाने 2021 में आयेंगे काम

आपने कभी ना कभी हर महीने की क़िस्त देने के लिए Nach मैंडेट जरुर sign किया होगा, आइये जाने NACH मैंडेट कैसे काम करता है

कभी भी अगर आपने लोन क्या हो या कोई ऐसी भुगतान जिसे आप हर महीने करते है तो इसके लिए आपने NACH form sign जरुर किया होगा, इससे आपका वो भुगतान हमेशा उसी तारीख में आपके खाते से हो जाता है

आज बैंकिंग लेन देन में NACH का बहुत बड़ा योगदान है, कुछ समय पहले ये Cheque के जरिया जाता रहा है लेकिन NACH के आने के बाद user को सिर्फ एक बार NACH sign करना होता है

  • UPI Daily Transaction Limit क्या है Urgent जाने 2021 में नियम

NACH मैंडेट कैसे काम करता है

आइये जाने NACH मैंडेट कैसे काम करता है, दोस्तों जब आप किसी भी क़िस्त के लिए NACH sign करते है तो आप उस लैंडर या जहाँ भी आप हर महीने भुगतान करना चाहते है,

उन्हें आप मंजूरी देते है की हर महीने मेरे खाते से इतने पैसे इस user को दे दिया जाए और bank उसी तारीख में हर महीने आपने खाते से पैसे निकाल कर पाने वाले के खाते में जोड़ देता है

जैसे की आप IMPS,NEFT, और UPI का इस्तेमाल करते है, उसी तरह से NACH भी एक banking tool है जिसके जरिये बार बार पैसे भेजने के लिए मंजूरी नहीं देनी होती

  • डिमांड ड्राफ्ट (DD) कैसे बनाये Urgent जाने 2 जरुरी बाते

NACH मैंडेट का क्या मतलब है

दोस्तों NACH का मतलब होता है “National Automated Clearing House”, ये imps, neft और upi की तरह एक banking payment tool है, जिसे NPCI ने साल 2017 मार्च में launch किया है

NACH की मदद से बैंक को बार बार user से ये permission नहीं लेनी होती पैसे के लेन देन के लिए,

NACH के आने के बाद किस्तों की संख्या बढ़ गई, यहाँ पाने वाले को पूरी security हो जाती है की उसके पैसे उस तारीख में उसके खाते में आ जायेंगे, चाहे वो लोन हो या निवेश

किस्तों (EMI) पर मोबाइल कैसे ख़रीदे | Urgent लिजिये 1 लाख का फ़ोन

NACH मैंडेट कैसे करते है

अगर आपको NACH मैंडेट करना है तो इसके लिए दो अलग अलग प्रक्रिया है पहला offline और दूसरा online

Online – बहुत से लोन और निवेश के किस्तों को जमा करने के लिए NACH उपलब्ध है जिसे सिर्फ NACH option में जा कर सिर्फ आधार OTP और internet banking के जरिये validate करना होता है

Offline – यहाँ दूसरा option है किस्तों में भुगतान करने के लिए आपसे पाने वाला एक NACH form sign करवाता है, उस form में राशि होती है जितना भुगतान करना है उस form पर आपको हस्ताक्षर करना होता है,जो आप banking के लिए इस्तेमाल करते है

NACH मैंडेट के फायदे क्या है

  • पाने वाले को एक बार NACH मैंडेट sign करवाना होता है जिससे की क़िस्त पूरी होने तक पैसे खाते में आते रहते है
  • क़िस्त जमा करने के लिए बार बार मेहनत नहीं करनी होती, एक बार NACH मैंडेट Sign करना होता है
  • आपके CIBIL को भी support मिलता है जिससे की loan मिलने में आसानी होती है

NACH मैंडेट के नुकसान क्या है

  • आप NACH मैंडेट को cancel नहीं कर सकते,
  • NACH bounce होने पर आपको अतिरिक्त शुल्क भी bank को देने होते है
  • आपके CIBIL पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है
  • पाने वाला NACH को कई बार present कर सकते है बैंक को, अगर वो clear नहीं हुआ तो अतिरिक्त शुल्क जुड़ते जाता है वो शुल्क बैंक को देने होते है

NACH मैंडेट RTN charge कितना है

अगर आपने कोई भी NACH मैंडेट sign किया है चाहे वो ऑनलाइन हो या ऑफलाइन आपको इसके ऊपर जरुर ध्यान देना चाहिए,

क्योंकि Bouncing charge आपको 500 और 18% GST शुल्क बैंक को देना होता है, और ये जितनी बार bounce होगा उतनी बार आपको शुल्क देना होते है

  • बिना इनकम प्रूफ लोन कैसे ले | Urgent लिजिये 1 लाख तक लोन

NACH मैंडेट कैसे केंसल करे

आपने अगर एक बार कोई NACH मैंडेट sign कर दिया तो आप तब तक उसे केंसल नहीं कर सकते है जब तक जिसे आपको भुगतान करना है वो ना चाहे,

अगर आपने कोई Online NACH मैंडेट sign किया है तो आपके पास कुछ बैंक के द्वारा ये option मिलता है आप NACH मैंडेट को internet banking के जरिये cancel कर सकते है

ECS क्या होता है

जब आप NACH मैंडेट sign करते है तो भुगतान करने के लिए बैंकिंग system ECS इस्तेमाल करता है ECS को Electronic Clearing system कहते है जिसे RBI ने बैंकिंग के लिए introduce किया है

इससे पाने वाले और भुगतान करने वाले दोनों को सहूलियत हो जाती है लेन देन में

NACH मैंडेट को active होने कितना समय लगता है

अगर आपने कोई भी NACH मैंडेट sign किया है तो उसे bank की तरफ से active होने के लिए लगभग 7 दिनों से 15 दिनों का समय लगता है

NACH active होने के बाद transaction शुरू हो जाता है उस तारीख में वो transaction बैंक की तरफ से पूरा कर दिया जाता है

ECS और NACH में क्या अंतर है

जैसा आज कल लगभग लेन देन internet banking के जरिये होता है और NACH API based activation होता है जिससे की NACH के लिए किसी भी sign की जरुरत नहीं होती और ये 7 दिनों के भीतर active हो जाता है

वही ECH जो की थोडा पुँराना clearing system है जिसके लिए भुगतान करने वाले का SIGN होना जरुरी है जो बैंकिंग के लिए इस्तेमाल किया गया हो, ये process थोडा धीमा होता है

RTN charges क्या होता है

NACH मैंडेट कैसे काम करता है  हमने पढ़ा, दोस्तों अगर आपको भुगतान करना है और आपने किसी को cheque, ECS या NACH दिया है और वो किसी भी तरह से Return हो जाता है तो उसके लिए बैंक आपने शुल्क लेती है,

जिसे बैंकिंग भाषा में RTN charges या Bouncing शुल्क भी कहा जाता है

निष्कर्ष

दोस्तों इस post में हमने जाना NACH मैंडेट कैसे काम करता है, कभी भी NACH करते वक़्त इन सभी बातो का ध्यान जरुर रखे, उम्मीद है आपको जानकारी पसंद आई होगी,

कृपया post को like और share करना ना भूले, इसी तरह की जानकारी के लिए ब्लॉग को मुफ्त में अभी subscribe करे, आपके कीमती समय के लिए धन्यवाद !!



This post first appeared on Aadharseloan, please read the originial post: here

Share the post

NACH मैंडेट कैसे काम करता है Urgent जाने 2021 में आयेंगे काम

×

Subscribe to Aadharseloan

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×