Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

Winter Diseases treatment in Hindi | सर्दियों में होने वाली बीमारियाँ और उसके उपचार

Winter Diseases treatment in Hindi | सर्दियों में होने वाली बीमारियाँ और उसके उपचार, सर्दियों का मौसम (Winter season) शुरू होते ही, बिमारियों का ताता सा लग जाता हैं। जिसकी सबसे बड़ी वजह ठंड के मौसम में हम लोगों की इम्यूनिटी सिस्टम (रोग से लड़ने की प्राकृतिक क्षमता) कम होना होता है । हाल के दिनों में तापमान में काफी कमी पायी गयी हैं कई जगह तो यह 0 डिग्री और इससे भी कम पहुँच जाता है । अब प्रश्न यही उठता है कि सर्दियों में ठण्ड से कैसे बचा जाए – सर्दियों में ठण्ड से बचने का बस एक ही मूल मंत्र हैं बॉडी को अंदर से गर्म रखने के लिए पर्याप्त एवं उपर्युक्त कपड़े पहनना तथा अपने खान-पान में संतुलित मात्रा में गर्म चीजों को शामिल करना जिससे हमारा शरीर का इम्यून सिस्टम सुचारु रूप से कार्य कर सके और सर्दियों में होने वाली बीमारियाँ बचा जा सके। चलिए हम आपको ठंड के कारण होने वाली कुछ बिमारी और उसके उपचार के बारे में जानकारी दे दे ।




Winter Diseases treatment in Hindi | सर्दियों में होने वाली बीमारियाँ और उसके उपचार

सर्दियों में होने वाली बीमारियो में सबसे आम सर्दी-खॉंसी और बुखार होता हैं जिससे बड़े-बूढ़े से लेकर बच्चे तक परेशान रहते हैं । इसके अलावा बीमारियाँ जो सर्दियों में ज्यादा परेशान करती हैं वो हैं – गठिया, डिहाईड्रेशन, अस्थमा, डर्मेटाइटिस, फेफड़ो में एलर्जी, ब्लड प्रेशर, एड़ीयॉ तथा होठो का फटना जैसी समस्या शामिल हैं । हम क्रमशः इन समस्यो तथा इसके जरुरी उपचारो के बारे में नीचे बताने जा रहे हैं ।

i) सर्दियों में ठण्ड से बचने के लिए गर्म कपडे पहने।
ii) अपने घर में अंगीठी का इस्तेमाल करे। अंगीठी में आग जलाकर हमेशा रखे।
iii) किसी भी बीमारी में डॉक्टर की सलाह के बिना कोई भी दवाई ना ले।
iv) ठंडी चीजे जैसे दही, छाज ना खाये।
v) सर्दियो में सुबह मोर्निग वाक पर सूरज निकलने के बाद ही जाये।
vi) ठंडे पानी में अधिक समय तक ना रहे।

सर्दी-जुकाम और उसका इलाज

सर्दियों के मौसम में नाक बहना, खांसी होना या फिर बुखार की चपेट में आ जाना एक आम Winter Diseases है। सर्दी-जुखाम से बचाव के लिए हमें छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देना चाहिए।

i) नमक पानी के गरारे करें या भाप लें
ii) इसमें गर्म तरल पदार्थ का ज्यादा प्रयोग करना चाहिए।
iii) तुरंत गर्म से ठंडे में और ठंडे से गर्म में न जाएं, अन्यथा इससे इस संक्रमण की गिरफ्त में आ सकते हैं।
iv) केसर को हल्के गुनगुने पानी में मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को नाक पर, माथे, सीने पर और हाथों की हथेलियों पर लगाने से सर्दी-जुकाम में राहत मिलती है।
v) पीपली, काली मिर्च, सौंठ और मुलहठी का चूर्ण बनाकर शहद के साथ लेना अच्छा रहता है

☛ स्वाइन फ्लू के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय
☛ वायरल बुखार के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय
☛ आजीवन स्वस्थ रहने के घरेलु उपाय
☛ सर्दी-जुकाम के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय
☛ खांसी के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय




गठिया और उसका इलाज

बढ़ती उम्र के साथ जोड़ों में दर्द, अकड़न या सूजन आना एक आम Winter Diseases हैं जो की सर्दियों के दिनों में खासा तकलीफ देती हैं । इसलिए गठिया के इलाज के बारे में जानना काफी जरुरी हैं।

i) नियमित रूप से व्यायाम करें।
ii) तेल में आजवायन और लहसुन पकाकर अच्छी तरह से मालिश करना भी लाभप्रद होता हैं ।
iii) ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करें और खुद हाइड्रेट रखें।
iv) गठिया के रोगी यह ध्यान दें कि उनके शरीर में पर्याप्त रूप स्ए कैल्शियम और विटामिन डी की आपूर्ति सही से हो रही है या नहीं।
v) सर्दियों के मौसम में अपने जोड़ों को ज्यादा से ज्यादा गर्म रखें।

डिहाईड्रेशन और उसका इलाज

सर्दियों में मौसम ठंडा होने के कारण हमें पसीना कम आने के साथ-साथ प्यास भी कम महसूस होती है और इस वजह से हम पानी कम पीते हैं। और जब शरीर में पानी की कमी होती है तो वह डिहाईड्रेशन Winter Diseases कहलाती है। इसके अलावा ठंड में सांस लेने-छोड़ने के दौरान मुंह से निकलने वाला भाप शरीर में पानी के स्तर को कम कर देता है जो डिहाइड्रेशन का कारण बनता है। डिहाईड्रेशन से बचने के उपाय

i) डिहाइड्रेशन की समस्या पर पानी में थोड़ा-सा नमक और चीनी मिलाकर पिएं।
ii) रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पीएं। आप चाहे तो गुनगुना पानी भी पी सकते हैं।
iii) नारियल पानी का भी सेवन कर सकते हैं।
iv) मसालेदार भोजन, कॉफी, कोल्ड ड्रिंक्स और चॉकलेट से दूरी बनाकर रखें।
v) आपको डिहाइड्रेशन की समस्या न हो इसके लिए सिगरेट और शराब से दूरी बनाकर रखें।

☛ डिहाईड्रेशन के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय




अस्थमा और उसका इलाज

ठंड के मौसम में एलर्जी के तत्व कोहरे की वजह से आसपास ही रहते हैं। हवा में उड़ते नहीं हैं। इन तत्वों से अस्थमा के रोगियों को अधिक तकलीफ होती है। इसलिए धूल-मिट्टी से दूरी बनाएं और कोहरे में घर से बहुत कम बाहर निकलें।

i) दमा के ट्रीटमेंट में लहसुन का प्रयोग बहुत फ़ायदेमंद है। 30 मिली दूध में लहसुन की 5 छिली कलियाँ उबालकर रोज़ सेवन कीजिए। चाहें तो अदरक वाली चाय में लहसुन की कलियाँ पीसकर डालें और इस चाय का सेवन करें।
ii) 1 चम्मच अदरक का रस, एक कप मेथी का काढ़ा और थोड़ा शहद मिलाकर मिश्रण तैयार करें। अस्थमा के उपचार में इसका सेवन लाभकारी है।
iii) 5 लौंग की कलियाँ आधा गिलास पानी में 5 मिनट उबालें। फिर इसे छानकर इसमें थोड़ा शहद मिलाकर गरमागरम पिएँ। दिन में तीन बार नियमित रूप से सेवन करने से दमा कंट्रोल में आ जाता है।
iv) 2 चम्मच शहद में 2 चम्मच हल्दी मिलाकर चाटने से दमा रोग कम हो जाता है।
v) जौं, बथुआ, अदरक और लहसुन का सेवन अस्थमा के रोगी के लिए फायदेमंद है।

☛ अस्थमा के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय

डर्मेटाइटिस और उसका इलाज

ठंड में हमारी त्वचा को कई प्रकार की एलर्जी का सामान करना पड़ता है। इसमें डर्मेटाइटिस, त्वचा में दरारे, त्वचा में खुजली होना (Winter Diseases) आदि शामिल है। जब हमारी त्वचा की नमी कम होने लगती है, तब हमें ऐसी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। माँइश्चराइजिंग लोशन, क्रीम या ऑइंटमेंट (ointment) लगाना डर्मेटाइटिस में फायेदमंद होता हैं ।

☛ डर्मेटाइटिस के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय

फेफड़ो में एलर्जी और उसका इलाज

सर्दियों के दिनों में हमारे शरीर की कोशिकाएं और श्वास नली सिकुड़ जाती है, जिसके कारण हमें साँस लेने में दिक्कत आने लगती है। जो लोग अस्थमा के मरीज होते हैं, उन्हें तो इस मौसम में बहुत ही दिक्कत का सामना करना पड़ता है। इस मौसम में बैक्टीरिया और वायरल इन्फेक्शन का सामना भी करना पड़ सकता है। यह अक्सर धूल और ठंड के कारण होता है।

ब्लड प्रेशर और उसका इलाज

उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) और दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों को ठंड और सर्द तेज हवाओं से बचकर रहना चाहिए। ऐसे लोगों के लिए यह मौसम खतरनाक साबित हो सकता है।

i) खान-पान का विशेष रूप से ध्यान दें।
ii तेल और मक्खन से बने खादय पदार्थों से पूरी तरह बचें।
iii) नियमित रूप से व्यायाम करें और सूरज निकलने के बाद ही मार्निंग वाक पर जाएं।

☛ डायबिटीज व मधुमेह के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय

एड़ीयॉ तथा होठो का फटना और उसका इलाज

☛ फटी एड़ीयॉ के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय
☛ सूखे तथा फटे होंठों के लिए घरेलू इलाज

Sources By – sehatgyan.com

The post Winter Diseases treatment in Hindi | सर्दियों में होने वाली बीमारियाँ और उसके उपचार appeared first on Healthnuskhe.com.



This post first appeared on Health Nuskhe | Gharelu Nuskhe | Beauty Tips In Hi, please read the originial post: here

Share the post

Winter Diseases treatment in Hindi | सर्दियों में होने वाली बीमारियाँ और उसके उपचार

×

Subscribe to Health Nuskhe | Gharelu Nuskhe | Beauty Tips In Hi

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×