Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

जउन खेतवा में करेले किसानी भैया - jaun khetwa me karele kisani bhaiya - Kisan Andolan


जउन खेतवा में करेले किसानी भैया ,

उहे हवें हमरो देश के अन्नदाता भैया। 

जिन बॉर्डर पर बाड़े तम्बू के छहियाँ ,

उ का जानिहै खेती के मरम भैया। 


खाये चिकन मटन और दारु ,

इनसे दुखी रहे मेहरारू । 

आके बॉर्डर पर बैठ गइले, 

आवल गइल मुश्किल कइले । 


अब तो कोर्ट कहत बा जाग, 

बोरिया बिस्तर लेके भाग । 

न तो बात बिगड़ जाई आगे, 

कोरोना कहर देश में ब्यापे । 


लागि सभे छोड़ छोड़ भागे, 

आंदोलन बंद होइ तब जाके। 

लागी लुआठी किटनीति में, 

उहे जीती जे सत्य शरण में । 

  #KisanAndolan, #farmerprotest, #krishikanun, #farmerslaw




This post first appeared on हजारों साल चलने वाला पंखा, please read the originial post: here

Share the post

जउन खेतवा में करेले किसानी भैया - jaun khetwa me karele kisani bhaiya - Kisan Andolan

×

Subscribe to हजारों साल चलने वाला पंखा

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×