Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

Companies ensure insurance of policy holder and not of home loan

होम लोन का नहीं होता है इंश्योरेंस बल्कि लोन लेने वाले की सुरक्षा सुनिश्चित करती हैं कंपनियां, जानिए

नई दिल्ली (प्रवीण द्विवेदी)। अपने शहर से बाहर रह रहे अधिकांश लोग अपना खुद का घर खरीदने की योजना बनाते रहते हैं और इसके लिए वो लोन के विकल्प का चयन करते हैं। होम लोन के लिए अप्लाई करने के दौरान  लेंडर्स (कर्ज देने वाले बैंक) बारोअर्स (कर्जदाताओं) से होम लोन इंश्योरेंस लेने को कहते हैं। अधिकांश लोगो को यह भ्रम रहता है कि यह आपके लोन का इंश्योरेंस होता है जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता। हम अपनी इस खबर में आपको यही पेंच समझाने की कोशिश करेंगे। हमने सर्टिफाइट फाइनेंशल प्लानर जितेंद्र सोलंकी और पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट बलवंत जैन से यही पेंच समझने की कोशिश की।
क्या कहा जितेंद्र सोलंकी ने:जितेंद्र सोलंकी ने बताया, " होम लोन के साथ ऑफर किया जाने वाला इंश्योरेंस दरअसल होम लोन का नहीं बल्कि बारोअर्स का लाइफ इंश्योरेंस होता है, ऐसा इसलिए क्योंकि आपकी मौत की स्थिति में लाइफ इंश्योरेंस से लोन का पैसा रिकवर कर लिया जाता है और मृतक के परिजनों का किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता। यह इंश्योरेंस बारोअर्स की प्रोटेक्शन के लिए होता है। "
सोलंकी ने बताया कि आमतौर पर कंपनियां दो तरह के लोन पर जोर देती हैं, एक लाइफ इंश्योरेंस और दूसरा एक्सीडेंटल इंश्योरेंस। आम तौर पर लोन देने वाली कंपनियां ही इंश्योरेंस की पॉलिसी मुहैया करवा देती हैं, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि आपने जिस कंपनी से लोन लिया है उसी कंपनी से इंश्योरेंस पॉलिसी भी लें। आप बाहर से भी इंश्योरेंस पॉलिसी ले सकते हैं।
होम लोन के साथ किस स्थिति में इंश्योरेंस जरूरी नहीं:जितेंद्र सोलंकी ने बताया कि अगर आपने होम लोन लेने से पहले ही लाइफ इंश्योरेंस या एक्सीडेंटल इंश्योरेंस इन दोनों में से कोई एक करा रखा है तो आपको होम लोन लेने के दौरान इंश्योरेंस लेने की जरूरत नहीं है। हालांकि आपके इंश्योरेंस कवर की राशि आपके होमलोन से मैच खानी चाहिए। ऐसा नहीं होने पर आपके लिए बाकी की राशि का इंश्योरेंस लेना जरूरी होगा।
लोन के अमाउंट के साथ ही कम होता जाता है इंश्योरेंस का कवर:जैसे-जैसे आपके होम लोन का अमाउंट कम होता जाता है आपके इंश्योरेंस का कवर भी कम होता रहता है। मसलन अगर आपने 30 लाख का लोन लिया है और आपने तीन साल के भीतर 10 लाख रुपए का लोन अगर चुका दिया है, तो अब आपके लोन की चुकाने योग्य राशि 20 लाख होगी और आपका इंश्योरेंस कवर भी 20 लाख होगा। यानी जैसे जैसे होम लोन की राशि कम होगी आपकी पॉलिसी का कवर भी कम होता रहेगा।
होम लोन के साथ ही इंश्योरेंस पर क्यों जोर देती हैं कंपनियां:होम लोन के साथ ही कंपनियां इंश्योरेंस पर इसलिए जोर देती हैं क्योंकि वो अपने लोन की सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहती है। यानी अगर किसी सूरत में लोन लेने वाले की मौत हो जाती है तो लोन की रकम इंश्योरेंस से कवर कर ली जाती है और मृतकों के परिजनों को मकान मिल जाता है। दरअसल कंपनियां कभी नहीं चाहती हैं कि मकान के लिए लोन लेने वाले व्यक्ति की मौत की स्थिति में वो मृतक के परिजनों को परेशान करें या उनके पीछे पीछे भागें, सोशल ओब्लिगेशन के चलते भी वो ऐसा करने से बचती हैं।
क्या कहा बलवंत जैन ने:बलवंत जैन ने बताया, " होम लोन का इंश्योरेंस कराना घर खरीदने वाले और होम लोन देने वाले दोनों के लिए बेहतर रहता है। किसी कारण से अगर लोन लेने वाले की मृत्यु हो जाती है तो आपके होम लोन के साथ लिए गए इश्योरेंस की राशि से लोन की रकम को कंपनियां वसूल कर लेती हैं। आमतौर पर होमलोन देन वाली कंपनिया खुद ही इश्योरेंस का विकल्प आपको देती हैं। लेकिन लोन देने वाली कंपनियों से ही इंश्योरेंस लेना जरूरी नहीं होता है। सामान्य तौर पर लोग 1 टाइम प्रीमियम का चयन करते हैं लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए, आपको एनुअल प्लान (टर्म प्लान) का चयन करना चाहिए। आमतौर पर लोग 20 साल के लोन में 20 साल तक लोन की राशि बकाया नहीं रखते वो उससे पहले ही अधिकांश राशि का भुगतान कर देते हैं, जिस हिसाब से आपका प्रीमियम कवर भी कम होता जाता है। "


Home Loan Ka Nahi Hota Hai insurance Balki Lene Wale Ki Surakshaa Sunishchit Karti Hain companies, Janiye br Naee Delhi Pravin Dwivedi । Apne Shahar Se Bahar Rah Rahe Adhikansh Log Apna Khud Ghar Kharidane Yojana Banate Rehte Aur Iske Liye Wo Ke Vikalp Chayan Karte Apply Karne Dauran Lenders Karz Dene Bank बारोअर्स KarzDaataon Ko Kehte Logo Yah Bhram Rehta Apke Jabki Aisa Bilkul Bhi Ham Apni Is Khabar Me Aapko Yahi Pench Samjhane Koshish Karenge Hamne सर्टिफाइट फाइनेंशल Planner Jitendra Solanki Personal Finance Expert Balwant Jain Samajhne Kya Kahaa ne Bataya " Sath Offer Kiya Jane Wala Darasal Life Isliye Kyonki Apki Maut Stithi Paisa recover Kar Liya Jata Mritak Parijanon Kisi Tarah Pareshani Samna Karna Padta Protection " Aamtaur Par Do Jor Deti Ek Doosra Accidental Aam Taur Wali Hee Policy Muhaiya Karwa Lekin Jaroori Aapne Jis Company Usi Lein Aap Le Sakte Kis Agar Pehle Ya In Dono Koi Karaa Rakha To Jarurat Halanki Cover Rashi HomeLoan Match Khani Chahiye Hone Baki Lena Hoga Amount Kam Jaise - Maslan 30 Lakh Teen Sal Bheetar 10 Rupaye Chuka Diya Ab ChuKaane Yogya 20 Hogi Apka Yani Rahega Kyon Chahti Surat Ho Jati Rakam Lee Mritakon Makan Mil Kabhi Vyakti Pareshan Karein Unke Pichhe Bhagein Social Obligation Chalte Bachti Karana Behtar Karan Mrityu Gaye इश्योरेंस Vasool Leti Den कंपनिया Kampaniyon Samanya 1 Time premium Annual Plan Term Tak Bakaya Rakhte Usase Bhugtan Dete Hisab



This post first appeared on Egras E Payment Gst India Taxation Act And Rules, please read the originial post: here

Share the post

Companies ensure insurance of policy holder and not of home loan

×

Subscribe to Egras E Payment Gst India Taxation Act And Rules

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×