Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

Wo Hain Zara Khafa Khafa Lyrics | Lata, Rafi Hits

वो हैं ज़रा खफा खफा – Wo Hain Zara Khafa Khafa Lyrics | Lata-Rafi

रूठे यार को कैसे मनाये या फिर हमारा अजीज़ दोस्त जो हमसे नाराज़ हो गया हो उसे मानाने का तरीका इस गाने में वो जादू है जिसकी लिरिक्स गुनगुनाने से कोई भी मान जायेगा लता जी और रफ़ी जी की आवाज में दिल जीत लेने वाला हुनर है जो सोंग के जरिये हमारे पास है. old song hits collection and song Lyrics only on Cinema news lyrics of Wo Hain Zara Khafa Khafa awesome Romantic song by मोहम्मद रफी, लता मंगेशकर and Lyrics मजरूह सुल्तानपुरी.

Movie/Album : शागिर्द (1967)
Music By : लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By : मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By : मोहम्मद रफी, लता मंगेशकर

Wo Hain Zara Khafa Khafa Lyrics

वो हैं ज़रा खफा ख़फा
तो नैन यूँ चुराए हैं
के हो
ना बोल दूँ तो क्या करूँ
वो हंस के यूँ बुलाए हैं
के हो

हंस रही है चांदनी
मचल के रो ना दूँ कहीं
ऐसे कोई रूठता नहीं
ये तेरा ख़याल है
करीब आ मेरे हसीं
मुझको तुझसे कुछ गिला नहीं
बात यूँ बनाए हैं
के हो..

फूल को महक मिले
ये रात रंग में ढले
मुझसे तेरी जुल्फ गर खुले
तुम ही मेरे संग हो
गगन की छाँव के तले
ये रुत यूँ ही भोर तक चले
प्यार यूँ जताए हैं
के हो…

ऐसे मत सताइए
ज़रा तरस तो खाइए
दिल की धड़कन मत जगाइए
कुछ नहीं कहूँगा मैं
ना अन्खड़ियाँ झुकाइए
सर को काँधे से उठाइये
ऐसे नींद आये है
के..

Stay connected with us for all time old song lyrics collection from entire Bollywood Movies.



This post first appeared on E Cinema News, please read the originial post: here

Share the post

Wo Hain Zara Khafa Khafa Lyrics | Lata, Rafi Hits

×

Subscribe to E Cinema News

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×