Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

यदि आप हुनमान जी के सच्चे भक्त हैं तो घर में उनकी तस्वीर लगाने से पहले ध्यान दें ये बातें……

हिन्दू धर्म में भगवान के महत्व को तो सभी जानते ही हैं और उससे भी कहीं ज्यादा उनकी तस्वीरों का जिन्हें सामने रख उनकी अराधना की जाती है और कोई भी शुभ काम हो उससे पहले उन्हें पूजा जाता है. हिंदु धर्म में मंदिर को घर का आत्‍मा कहा जाता है क्‍योंकि घर में जितनी भी सकारात्‍क उर्जा आती है वह मंदिर के वजह से ही आती है.वास्‍तु शास्‍त्र में भी घर के मंदिर को विशेष महत्‍व दिया गया है.

मूर्तियों के बारे में विद्वान कहते हैं जिस घर में दैवीय शक्तियों को सुंदर चित्रो और स्वरूपों में स्थापित किया जाता है. उस स्थान से कभी भी देवी-देवता दूर नहीं जाते और इनमे सबसे ज्यादा पूजनीय हनुमान जी है. हनुमान जी को कलयुग का सबसे शक्तिशाली देवता माना गया है कहा जाता है कि जहाँ बजरंगबली का वास होता है वहां दुष्‍ट ताकतें प्रवेश भी नहीं कर सकती.

हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी के रूप में मानते हैं, दंपति को इनका चित्र अपने बैडरूम में नहीं लगाना चाहिए. इससे अशुभता बढ़ती है और घर के मंदिर में या किसी अन्य पवित्र स्थान पर इनका चित्रपट सजाएं. ख़ास बात ये है कि सही दिशा में मूर्ति को लगाया जाए. इसके लिए पंचमुखी बालाजी की मूर्ति या तस्‍वीर को घर के दक्षिण पूर्व और दक्षिण दिशा के बीच में लगाए और साथ ही यह ध्‍यान रखे की हनुमान जी का मुख‍ दक्षिण दिशा की ओर हो.

ऐसा देखा गया है हनुमान जी जिस रूप में अपनी शक्ति का प्रदर्शन कर रहे हैं ऐसे चित्रपट को घर में लगाने से किसी भी तरह की बुरी शक्ति का प्रवेश असंभव है.

वास्तु विज्ञान के अनुसार भी हुनमान जी के पंचमुखी तस्वीर को अत्याधिक प्रभावशाली बताया गया है. जिससे घर में एक सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है.

The post यदि आप हुनमान जी के सच्चे भक्त हैं तो घर में उनकी तस्वीर लगाने से पहले ध्यान दें ये बातें…… appeared first on Hindutva.



This post first appeared on Pursuing The Sublime Ganges – From Heaven To Ear, please read the originial post: here

Share the post

यदि आप हुनमान जी के सच्चे भक्त हैं तो घर में उनकी तस्वीर लगाने से पहले ध्यान दें ये बातें……

×

Subscribe to Pursuing The Sublime Ganges – From Heaven To Ear

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×