Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

पत्थरबाज लड़की को पड़ा पत्थर तो आई अक्ल , मिमियाकर बोली तौबा तौबा !!

इकरा को लगा पत्थरबाज का पत्थर, अब नही सहूंगी कुछ भी.

पिछले हफ्ते छात्रों के साथ शांतिपूर्ण प्रदर्शन का हिस्सा बनी 17 साल की इकरा अब अस्पताल में बहुत ही घायल स्थिति में भर्ती है. इकरा के सिर पर किसी का पत्थर लगा है लेकिन अब उसको अक़्ल आ गयी है कि पत्थरबाज़ी करना कितना ख़तरनाक होता है  ।

बता दें कि पिछले हफ्ते पुलवावा में पुलिस कार्रवाई में घायल हुए दर्जनों छात्रों के विरुद्ध बुधवार को एक कॉलेज के युवकों ने प्रदर्शन किया और पत्थर फेंके और इसके बाद पत्थर मारने वाली इकरा को किसी का पत्‍थर लग गया । दुसरे हिंसक प्रदर्शनों की तरह बुधवार को भी पुलवामा में युवकों ने हिंसक प्रदर्शन किए लेकिन इसे लेकर जिहादी पत्थरबाज़ पुलिस  पर ही आरोप लगा रहे हैं  ।

बताया जा रहा है कि एक ओर छात्रों ने दावा किया है कि सेना की एक गाड़ी ने उनके कॉलेज पर छापा मारा और इसी के खिलाफ में उन्होंने प्रदर्शन किया । वहीं दूसरी ओर सेना का कहना है कि वे एक कार्यक्रम को लेकर कॉलेज के प्रिंसिपल से बात करने गए थे । सुरक्षाकर्मियों को कॉलेज में देखते जिहादी छात्रों ने उन पर पत्थर मारने शुरू कर दिए और सेना की गाड़ियों को कॉलेस से बाहर निकालने की जिद करने लगे ।  पुलिस का कहना है कि सेना की गाडी सुरक्षा के लिए कॉलेज के बाहर बहुत समय से तैनात रहती है ।

लेकिन बुधवार को छात्रों ने उनपर पत्थर मारने शुरू कर दिए और उसके बाद दोनों पक्षों में झगडा हो गया. इसी दौरान पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़ने शुरू किये और पेलेट गन का इस्तेमाल भी किया. हालाँकि इसके अगले ही दिन अलगाववादी समर्थक छात्रों के गुट ने घाटी की सभी शैक्षणिक संस्थाओं में बंद का आयोजन किया । इकरा का कहना है कि इस बंद का वो और छात्रों साथ शांति से प्रदर्शन का हिस्सा थीं लेकिन आप इस झूठी लड़की को देखो कैसा शांतिपूर्ण है कि वहाँ पत्थर चलाए जा रहे थे जो ये ख़ुद भी चला रही थी।  वो जिहादी मानसिकता की लड़की ख़ुद ही नहीं चाहती कि उनके कॉलेज में सुरक्षा बल के जवान आएं , क्यूंकि हम वहां पढ़ाई के लिए गए हैं , लेकिन इसका मतलब ये तो नहीं कि सुरक्षा बल वाले वहाँ प्रिन्सिपल से बात करने भी नहीं आ सकते और फिर पत्थर क्यूँ मारे गए  ?

बता दें कि पहले कुछ छात्रों ने जवानों पर पत्‍थर फेंकना शुरू किया था । इतना ही नही कुछ छात्र वहां पर बने सीआरपीएफ के बंकर पर भी चढ़ गए और बहुत बुरे तरीके से पत्थरबाजी की । इसी बीच इकरा को पत्‍थर लगा गया जिसके लिए वह जिहादन सीआरफीएफ को जिम्मेदार बता रही है । आपको बता दें कि 2016 में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद से घाटी में अब ढाई हजार से ज्यादा पत्थरबाजी की घटनाएं हुई हैं जिसमें हजारों जवान घायल हुए हैं । अब इकरा बुरी तरह डर गयी है और कहती है अब पत्थरबाज़ी नहीं करूँगी ।

कश्मीरी मुस्लिम लोगों पर जब ख़ुद को चोट लगती है तो ये मिमियाने लगते हैं लेकिन सेना पर लगातार पत्थर बरसाते हैं क्या सेना के लोग इंसान नहीं होते  ?

The post पत्थरबाज लड़की को पड़ा पत्थर तो आई अक्ल , मिमियाकर बोली तौबा तौबा !! appeared first on Hindutva.



This post first appeared on Pursuing The Sublime Ganges – From Heaven To Ear, please read the originial post: here

Share the post

पत्थरबाज लड़की को पड़ा पत्थर तो आई अक्ल , मिमियाकर बोली तौबा तौबा !!

×

Subscribe to Pursuing The Sublime Ganges – From Heaven To Ear

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×