Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

आइए जानते हैं कश्मीर समस्या का असली सच, क्या है आख़िर कश्मीर समस्या ?

मुसलमानों की बढती जनसंख्या है कश्मीर समस्या का असली सच !

आप भी काफी समय से कश्मीर समस्या के बारे में सुनते आ रहे होंगे. लेकिन आखिर इसका असली सच है क्या. इस बारे में अभी भी बहुत से भारतीयों को पता नहीं होगा. शयद यह भी बहुत बड़ा कारण है इस समस्या का. सोचो अगर हमारे देश की युवा पीढ़ी को इस सच का पता ही नहीं होगा तो वह कभी इस बारे में बात नहीं करेंगे और बात नहीं करेंगे तो जनसमर्थन नहीं बनेगा. जनसमर्थन नहीं तो समस्या का हल भी नहीं.

दरअसल जम्मू कश्मीर में मुख्यता तीन हिस्से हैं. पहला जम्मू दूसरा कश्मीर तथा तीसरा है लद्दाख. अगर देखा जाए तो यहाँ कोई भी समस्या इस तरह की नहीं है की वह सुलझाई ही न जा सके. यहाँ की सिर्फ एक ही समस्या है वो यह की यहाँ पर मुसलमान बहुसंख्यक हैं. 1990 तक  हिन्दू और मुसलमानों की आवादी में कुछ हद तक समानता थी. मगर जैसे ही उसके बाद मुसलमानों की आवादी में तेजी से वृद्धी हुई बस इन जेहादियों ने अपना कट्टरपंथी रूप दिखाना चालू कर दिया.

यह कश्मीर का ही मुद्दा नहीं वल्कि अन्य राज्यों में भी आप वहां नजर दौडाएं जहाँ जहाँ मुसलमानों की आवादी ज्यादा है. बंगाल, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में तथा मध्यप्रदेश में भी जहाँ पर इनकी आवादी ज्यादा है वहीँ पर ये अपने असली कट्टरपंथी रोद्र रूप में आ जाते हैं. देश में अगर समस्याओं को सुलझाना है तो देश के नागरिकों को ही समान नागरिक संहिता बिल के लिए सरकार पर दबाव बनाना होगा वरना नेता लोग तो सेक्युलर बने रहेंगे. वोट बैंक के लिए मुस्लिमों की पैरवी करते रहेंगे.

अलपसंख्यक होने का राग अलापते रहेंगे. तथा एक दिन ऐसा आयेगा की यह कट्टरपंथी जेहादी अपने असली रूप में आकर हुमायूं, बाबर, ओरंगजेब का इतिहास दोहराएंगे.

The post आइए जानते हैं कश्मीर समस्या का असली सच, क्या है आख़िर कश्मीर समस्या ? appeared first on Hindutva.



This post first appeared on Pursuing The Sublime Ganges – From Heaven To Ear, please read the originial post: here

Share the post

आइए जानते हैं कश्मीर समस्या का असली सच, क्या है आख़िर कश्मीर समस्या ?

×

Subscribe to Pursuing The Sublime Ganges – From Heaven To Ear

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×