Get Even More Visitors To Your Blog, Upgrade To A Business Listing >>

मित्र मंडली - 108



इस अंक के सात रचनाकार

मंथन

मीना भारद्वाज  जी 

"स्त्री की निस्वार्थ प्रेम को दर्शाती और उसके जीवन के क्रिया-कलाप को मार्मिक ढंग से व्यकर करती सुन्दर ग़ज़ल.

बूँदभर गंगाजल

श्वेता सिन्हा जी 

वृद्धा अवस्था की मार्मिक विवेचना करती भावपूर्ण प्रस्तुति.

दादी का वसंत

कविता  रावत जी  

सामान्य सी घटना परन्तु पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाती, समय को सार्थकता के साथ व्यतीत करने की संदेश देती सुन्दर प्रस्तुति . 

आया वसंत.. हाइकू
 
सुधा सिंह जी

बसंत के आगमन पर धरती की श्रृंगार को आत्मसात करती  सुन्दर हाइकू.

छद्म-एहसास

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा जी 

प्रियजन के बिछड़ जाने के बाद हम अक्सर आसमान की तरफ उनकी याद में में देखते है, इन्हीं एहसासों को शब्द देती सुन्दर रचना.

आत्महीनता

रवींद्र सिंह यादव जी 

 भौतिक सुख के पीछे पागलों की तरह भागने की प्रवृति ने आत्मिक सुख एवं संतोष आज के मानव ने तज कर असंतोष को गले लगा लिया है. इस प्रवृति से आहत कवि मन से उपजी भावपूर्ण रचना.

इतनी प्यास थी कि फिर हद से गुजरने में वक़्त लगा...

ज़नाब जफ़र ऐरोली 

ज़िन्दगी के सभी तरह के तजुर्बे को आत्मसात करती और बेहतरीन शेरों से सजी ग़ज़ल.


आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा । आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 18-02-2019  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! 


और अंत में मेरी रचना :


1. मेरे तो करतार हैं।

Featured post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers
Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers


नोट : पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है : https://rakeshkirachanay.blogspot.com/p/blog-page_25.html मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुँचाना है। आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा।






This post first appeared on RAKESH KI RACHANAY, please read the originial post: here

Share the post

मित्र मंडली - 108

×

Subscribe to Rakesh Ki Rachanay

Get updates delivered right to your inbox!

Thank you for your subscription

×